मिट्टी के गणेश बनाए और घर में ही करें विसर्जित

एसपी मित्तल 
दो सितम्बर से देशभर में गणेश उत्सव की धूम शुरू हो जाएगी। घरों से लेकर सार्वजनिक स्थलों एवं मंदिरों में भगवान गणेश की मूर्ति की स्थापना कर अगले एक सप्ताह तक उत्सव मनाया जाएगा। गणेश उत्सव को ध्यान में रखते हुए पेशेवर मीडिया घराने, सामाजिक संस्थाएं और स्वयं को पर्यावरण का हितैषी मानने वाले पर्यावरणविद् सलाह दे रहे हैं कि इस बार प्लास्टर ऑफ पेरिस या अन्य किसी पदार्थ से गणेश मूर्तियां बनाने के बजाए मिट्टी से बनाई जाए। और मिट्टी से बनी प्रतिमा को घर में ही विसर्जित किया जावे। ऐसी सलाह को लेकर अखबरों में प्रथम पृष्ठ पर खबरें भी छप रही हैं।

जो अखबार मालिक पांच सेंटीमीटर सिंगल कॉलम के विज्ञापन के पांच हजार रुपए तक वसूलता है, वह मिट्टी वाले गणेश की सलाह के पांच सौ सेंटीमीटर में खबर प्रकाशित कर रहा है। पीओपी की जगह मिट्टी के गणेशजी बने और घरों में ही विसॢजत हों, यह अच्छी सलाह और इस पर अमल भी होना चाहिए। जब प्रदूषण विकराल रूप ले रहा है, तब समाज में ऐसे उपाय होने ही चाहिए। लेकिन सवाल उठता है कि पर्यावरण की चिंता सिर्फ हिन्दू समुदाय के त्यौंहारों पर ही क्यों होती है? जब हमारा देश धर्म निरपेक्ष है तो फिर सभी धर्मों के अनुयायियों को पर्यावरण बचाने की चिंता होनी चाहिए।

मूर्ति पूजा के घोर विरोधी बुद्धिजीवी भी मिट्टी के गणेश बनाने की सलाह देते हैं, लेकिन ऐसे बुद्धिजीवी अन्य समुदाय के परंपराओं और मान्यताओं को बदलने पर एक शब्द भी बोलने की हिम्मत नहीं दिखाते। जबकि अन्य धर्मों में ऐसी परंपराओं से पर्यावरण को काफी नुकसान होता है। कई बार हिन्दू धर्म की अच्छाइयां को लेकर सवाल उठते हैं। हिन्दू धर्म की सबसे बड़ी अच्छाई यही है कि आलोचनाओं का भी स्वागत किया जाता है। और ऐसी सलाह को स्वीकार भी किया जा रहा है। यदि हम किसी दोषपूर्ण परंपरा में बदलाव करते हैं तो यह उस धर्म की महानता ही है।

हिदू धर्म विशाल हृदयवाला है जिसमें विपरित विचार धारा वाला व्यक्ति भी समा सकता है। हिन्दू धर्म की परंपराएं और मान्यताएं भी ऐसी है जिससे हर कोई व्यक्ति सहर्ष स्वीकार कर लेता है। जैन धर्म में शरीर से बाहर निकलने वाले सांस सेे भी जीव हत्या होना माना जाता है। इसलिए अनेक जैन सधु संत अपने मुंह पर कपड़ा बांधते हैं। इन जैन समुदाय के पर्यूषण पर्व भी चल रहे हैं। महिलाएं भी एक दो चम्मच पानी पीकर एक पखवाड़े तक का उपवास कर रही है।

Related News

Leave a Comment