प्रधानमंत्री आवास के नाम पर रिश्वत लेने का वीडियो वायरल

मुजफ्फरनगर।  प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मकान दिलाने के नाम पर 20 हजार रुपए रिश्वत लेने का वीडियो वायरल हुआ है, जिससे डूडा विभाग में हड़कंप मचा हुआ है। परियोजना अधिकारी ने मामले का संज्ञान लेते हुए जांच बैठा दी है। जिस डीसी पर रिश्वत के आरोप लगे हैं, उसे छह माह पूर्व इसी प्रकार के प्रकरण में हटा दिया गया था। पूर्व की जांच में आरोप सिद्ध नहीं होने पर बीते दिनों दोबारा रखा गया था।
प्रधानमंत्री आवास योजना के लिए शासन स्तर से स्पेस कम्बाइन प्राइवेट लि. को अधिकृत किया गया है। कंपनी की ओर से विशाल त्यागी को जिला को-आर्डिनेटर नियुक्त किया गया है। डीसी ने विकास भवन के सामने स्थित रामपुरम में निजी कार्यालय खोला था। सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ है, जिसमें डीसी 100-100 और 500-500 के नोट गिन रहे हैं। दूसरे वीडियो में एक महिला डीसी पर रिश्वत लेने के आरोप लगा रही है। इस बारे में वह डूडा के परियोजना अधिकारी संदीप कुमार को जानकारी दे रही हैं।
जानकारी देने के साथ ही शपथ पत्र भी दे रही हैं, जिसमें कहा गया है कि उनसे प्रधानमंत्री आवास दिलाने के लिए 20 हजार रुपये लिए गए। इतना ही नहीं एक अन्य वीडियो पर डीसी अनजान जगह बैठे 500-500 के नोट गिन रहे हैं। ये समस्त वीडियो पूरे रिश्वत प्रकरण की कडिय़ों को जोड़ रही हैं। डूडा के परियोजना अधिकारी संदीप कुमार का कहना है कि वीडियो करीब छह माह पुराना है। छह माह पूर्व डीसी विशाल त्यागी पर रिश्वत के आरोप लगने पर हटा दिया गया था, लेकिन जांच में आरोप सिद्ध नहीं हो पाए। शिकायतकर्ता कोई ठोस सुबूत नहीं दे पाई। वीडियो वायरल के मामले में डीसी से बातचीत की गई तो उन्होंने बताया कि पूर्व में कंपनी कर्मचारियों की सेलरी का पैसा उनके पास आता था। उसी पैसे को गिन रहे हैं। फिर भी मामले को लेकर जांच बैठा दी गई है। यदि किसी के पास रिश्वत का कोई सुबूत है तो वह सीधे उन्हें या कार्यालय में दे सकता है।


Source : upuklive

Related News

Leave a Comment