ईएमओ समेत चार स्वास्थ्य कर्मियों के साथ मारपीट

जसपुर। दुर्घटना में घायल बेटी एवं महिला के साथ अस्पताल आये बीएसएफ के सिपाही ने इमरजेंसी मेडीकल अफसर समेत चार स्वास्थ्य कर्मियों के साथ गाली गलौज कर मारपीट कर दी। इससे नाराज स्वास्थ्य कर्मियों ने इमरजेंसी सेवाओं को ठप कर दिया। साथ ही कई मरीजों का उपचार करने से इंकार करते हुए उन्हे लौटा दिया। स्वास्थ कर्मियों की तहरीर पर पुलिस ने आरोपी को हिरासत में ले लिया है। 
सोमवार को सरकारी अस्पताल में डा.संजीव देशवाल, फार्माशिष्ट एबी भट्ट, वार्ड ब्वाय विकास कुमार, स्वच्छक राजेश कुमार इमरजेंसी ड्यूटी में थे। करीब साढ़े तीन बजे ग्राम मंझरा निवासी बीएसएफ का सिपाही समरपाल सिंह अपनी भाभी किरण पत्नी राजेन्द्र सिंह एवं अपनी सात वर्षीय बेटी खुशी को घायल अवस्था में अस्पताल लेकर आया। खुशी के सिर में चोट लगी थी। चिकित्सा कर्मियों ने बच्ची का प्राथमिक उपचार करने के बाद सिटी स्कैन कराने को उसे काशीपुर रेफर के लिए लिख दिया। 
साथ ही चिकित्सा कर्मी एम्बुलेंस से मरीज को भेजने की व्यवस्था में जुट गये। आरोप है कि इस बीच समरपाल ने डाक्टर देशवाल एवं अन्य कर्मियों से गाली गलौच करनी शुरू कर दी। इससे पहले डा. एम अन्य कर्मी समझ पाते समरपाल ने उनसे मारपीट कर दी। तथा डा. देशवाल के कपड़े फाड़ दिए। हंगामा होने पर आरोपी ने कर्मियों को धमकी देकर सरकारी कामकाज में बाधा पैदा कर दी। घटना के बाद आरोपी सरकारी रजिस्ट्रर लेकर भागने लगा तो कर्मियों ने उसे दबोच लिया। 
इस दौरान डा. देशवाल ने स्वयं कोतवाली जाकर पुलिस को सूचना दी। मौके पर आई पुलिस ने आरोपी को हिरासत में ले लिया। घटना के बाद चिकित्सा कर्मियो ने इमरजेंसी सेवाओ को ठप कर दिया। तथा कई मरीजों को वापस कर दिया। डा. देशवाल ने बताया कि आरोपी के खिलाफ पुलिस को तहरीर दे दी गई है। मुकदमा दर्ज होने तक इमरजेंसी बंद रहेगी। कोतवाल उमेद सिंह दानू ने बताया कि आरोपी को हिरासत में ले लिया है। 

Related News

Leave a Comment