अच्छा काम किया इसलिए तो मोदी सरकार दोबारा से बनी है: दत्तात्रेय

एसपी मित्तल 
9 सितम्बर को पुष्कर में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की तीन दिवसीय अखिल भारतीय समन्वय बैठक का समापन हो गया। इस बैठक में संघ प्रमुख मोहन भागवत तथा 35 संगठनों के करीब 200 पदाधिकारी उपस्थित रहे। भाजपा की ओर से राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, संगठन महासचिव बीएल संतोष तथा राममाधव उपस्थित थे। बैठक के समापन मौके पर संघ के सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले ने पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि भाजपा सरकार ने अपने प्रथम कार्यकाल में अच्छे कार्य किए।

इसलिए तो दोबारा से भाजपा की सरकार बनी है। होसबोले ने संघ के संगठन स्वदेशी जागरण मंच की भूमिका के बारे में बताया कि विदेशी सामानों के विरोध में जो अभियान चलाया गया, उसी का परिणाम है कि भारत में चीनी सामान की बिक्री तेजी से घटी है। वैसे भी जो सामान अपने देश में तैयार हो रहा है उसे विदेश से नहीं खरीदना चाहिए। बैठक के बारे में जानकारी देते हुए होसबोले ने बताया कि संघ से जुड़े सभी संगठन स्वतंत्र तौर पर काम करते हैं।

बैठक में कोई रिपोर्ट प्रस्तुत नहीं की गई। बैठक में संगठनों के प्रतिनिधियों ने अपने अनुभव सांझा किए।  संघ के विभिन्न संगठनों में सक्रिय सात सौ महिला स्वयं सेवकों ने देश के 464 जिलों में जाकर महिलाओं की स्थिति पर सर्वे किया। इस सर्वे की रिपोर्ट को दिल्ली में आगामी 24 सितम्बर को जारी किया जाएगा। उन्होंने इस बात पर अफसोस जताया कि देश में महिलाओं पर अत्याचार और नाबालिग लड़कियों से बलात्कार की घटनाएं हो रही हैं। इन बुराइयों को ठीक करने का दायित्व समाज का है।

उन्होंने कहा कि प्लास्टिक के उपयोग को बंद करने पेड़ लगाने और पानी बचाने के लिए आगरा और पुणे में कार्यशाला आयोजित की जाएगी। इस कार्यशाला में पर्यावरण रक्षा एवं संवर्धन विषय पर विशेषज्ञों के विचार सुने जाएंगे। उन्होंने कहा कि हिन्दू समाज अपने पैरों पर खड़ा हो इसके लिए राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ लगातार प्रयास कर रहा है। हिन्दुत्व और राष्ट्रवाद की भावना देश के हर नागरिक में होनी चाहिए। राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर अभी मंथन किया जा रहा है। सीमा क्षेत्रों में राष्ट्र विरोधी गतिविधियों को रोकने के लिए संघ की भूमिका को बढ़ाया जाएगा।

संघ के विभिन्न संगठनों के कार्यकर्ता सीमा क्षेत्रों में जाकर सरहद प्रणाम कार्यक्रम चलाएंगे। ऐसी शिकायतें मिली है कि सीमा क्षेत्रों में ईसाईकरण और इस्लामीकरण हो रहा है। पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा आदिवासी क्षेत्र भारत में हैं। यहां भी धर्मांतरण का रोग है। माओवाद और नक्सलवाद की वजह से आदिवासियों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि पिछले पांच वर्षों में केन्द्र सरकार के प्रयासों से ऐसी बुराइयों में कमी आई है। मॉबलिंचिंग की घटनाओं पर होसबोले ने कहा कि संघ कभी भी हिंसा का पक्षधर नहीं रहा है।

Related News

Leave a Comment