1000 बच्चों के दिल का ऑपरेशन करवा चुकी हैं सिंगर पलक

एक था टाइगर का गाना, आंखोँ को यूं बंद करके धीमे- धीमे गिन गिन के… आशिकी -2 का गाना- अब तुम ही हो मेरी आशिकी…. गब्बर इज बैक का गाना, तेरी मेरी कहानी… तो आपको जरूर याद होंगे । पहले इन मशहूर गानों को गुनगुना लीजिए, फिर सुनिए इन गानों को गाने वाली सिंगर की दिल को छू लेने वाली एक कहानी। इन गानों को आवाज दी है प्लेबैक सिंगर पलक मुच्छल ने। गायिका के अलावा पलक का एक दूसरा रूप भी है। इस रूप को दुनिया भी झुक कर सलाम करती है। इतनी कम उम्र में इतना विशिष्ट योगदान विरले लोग ही दे पाते हैं।

वे सिर्फ 26 साल की हैं लेकिन उन्होंने एक-एक पैसा जोड़ कर 1000 गरीब बच्चों के दिल का ऑपरेशन कराया है। वे फिल्मी गीत गा कर जो पैसा कमाती हैं वो सब गरीब बच्चों के ऑपरेशन पर खर्च कर देती हैं। पलक इंदौर की रहने वाली हैं और उनके पिता बहुत बड़े कारोबारी हैं। वे आजीविका के लिए नहीं बल्कि गरीब बच्चों के लिए पैसा कमाती हैं। गरीब बच्चों के लिए उन्होंने पलक मुच्छल हार्ट फाऊंडेशन बनाया है। पलक ने अपने इस फाउंडेशन के लिए 2013 तक करीब ढाई करोड़ रुपये जमा किये थे।

वे अपनी बेहतरीन गायिकी से पैसा कमाती हैं और नेक काम में खर्च कर देती हैं। फिल्मी दुनिया में सबसे अलग और सबसे खास हैं पलक। आज जब दुनिया पैसे के पीछे भाग रही है उस दौर में 25 साल की यह लड़की बच्चों को नया जीवन दे रही है। व्यवसायी परिवार में पैदा होने वाली पलक को बचपन से ही गाने का शौक था। उन्होंने शास्त्रीय संगीत की शिक्षा लेकर अपने हुनर को और निखारा।


करगिल युद्ध के समय पलक केवल सात साल की थीं। लेकिन युद्ध प्रभावित जवानों के लिए 25 हजार रुपये का चंदा इकट्ठा किया था। उन्होंने इंदौर के बाजार में घूम-घूम गीत गाये और पैसा जमा किया था। गुजरात के भूकंप पीड़ितों, ओडिशा के तूफान प्रभावितों की मदद के लिए भी पलक ने चंदा इकट्ठा किया था। लेकिन उनका सबसे बड़ा योगदान बच्चों के दिल के ऑपरेशन के लिए है। सामाजिक कार्यों में विशिष्ट योगदान के लिए पलक का नाम गिनिज बुक ऑफ रिकॉर्ड्स और लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में दर्ज किया गया है।

Related News

Leave a Comment