यहां सावन का अंतिम साेमवार हाेने के कारण बकरीद के पहले दिन कुर्बानी नहीं करेंगे मुसलमान

मुजफ्फरपुर। बाबा गरीबनाथ मंदिर के आसपास रहनेवाले करीब 3 दर्जन मुसलमान परिवार सावन के आखिरी साेमवार के दिन शुरू हाे रहे बकरीद के पहले दिन कुर्बानी नहीं करेंगे। इसका ऐलान शनिवार काे मंदिर के समीप स्थित छाता बाजार मस्जिद में इमाम माैलाना शहीदुज्जमां की अध्यक्षता में हुई बैठक के बाद किया गया।

बाबा गरीबनाथ मंदिर में सावन की अंतिम साेमवारी पर जलाभिषेक के लिए डेढ़-दाे लाख तक कांवरिए व शिव भक्त उमड़ते हैं। बड़े पैमाने पर मेला लगता है। हर गली व सड़कें कांवरियाें से पट जाती हैं।

ऐसे में उस दिन मंदिर के समीप के माेहल्ले में बकरे काे जिबह न किया जाए, इसके लिए वाॅर्ड पार्षद माे. शेरू के भाई माे. चांद व वाॅर्ड 21 के पार्षद केपी पप्पू ने लाेगाें से वार्ता की।


मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार छाता बाजार मस्जिद कमेटी के सचिव माे. आजाद ने कहा कि कुर्बानी से कांवरिए व शिवभक्ताें काे परेशानी हाेगी। इसलिए माेहल्ले के सभी मुसलमानाें ने एक मत से यह निर्णय लिया कि बकरीद ताे 3 दिनाें का पर्व है।

 यदि पहले दिन कुर्बानी न की जाए ताे काेई बात नहीं, दूसरे दिन कर लेंगे। मंगलवार काे कांवरियाें का हुजूम भी नहीं रहेगा।
-सांकेतिक तस्वीर 


Source : upuklive

Related News

Leave a Comment