मोदी की काशी: डीएम और डीआरएम सम्हाला मोर्चा और ऊठा ली झाडू

राकेश पाण्डेय
डीएम और डीआरएम खुद संभाला मोर्चा, झाड़ू हाथ में लेकर रेलवे ट्रैक और कार्यालय को किया साफपूर्वोत्तर रेलवे वाराणसी मंडल के कई स्टेशनों पर विशेष स्वच्छता अभियान चलाकर कर्मचारियों ने श्रमदान किया। इस दौरान ट्रेनों और रेलवे ट्रैक की सफाई की गई।

मंडल रेल प्रबंधक (डीआरएम) विजय कुमार पंजियार ने मंडुवाडीह रेलवे स्टेशन पर रेलवे ट्रैक, प्लेटफार्मों, सिग्नल कार्यालय, स्टेशन अधीक्षक कार्यालय सहित अन्य कार्यालयों का निरीक्षण कर साफ-सफाई पर विशेष ध्यान देने का निर्देश दिया। तो वहीं डीएम सुरेंद्र सिंह ने भी कलेक्ट्रेट कार्यालय में खुद झाड़ू लगाई।

अभियान के दौरान मंडल रेल प्रबंधक ने सभी स्टेशनों को प्लास्टिक मुक्त क्षेत्र बनाने का आह्वान किया और प्लेटफार्मों एवं स्टेशन परिसर में प्लास्टिक कप/गिलास की जगह कुल्हड़ के प्रयोग की बात कही। उन्होंने मंडुवाडीह स्टेशन यार्ड को प्लास्टिक मुक्त बनाने के लिए रेलवे ट्रैक पर श्रमदान भी किया।इस दौरान अपर मंडल रेल प्रबंधक (इन्फ्रा) प्रवीण कुमार, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. महेंद्र सिंह नांबियाल, वरिष्ठ मंडल विद्युत इंजीनियर सत्येंद्र यादव, मंडल सुरक्षा आयुक्त ऋ षि पांडेय आदि मौजूद रहे।

मंडुवाडीह रेलवे स्टेशन को सुविधाओं और गुणवत्ता, पर्यावरण और स्वास्थ्य और सुरक्षा प्रबंधन प्रणाली के लिए तीन अलग-अलग आईएसओ सर्टिफिकेट मिला है। पिछले कुछ सालों से स्टेशन पर सुविधाओं में बढ़ोत्तरी हुई है। इसका लाभ यात्रियों को मिला है।

कार्यालय में सफाई कर डीएम ने संभाला स्वच्छता का मोर्चा

सफाई व्यवस्था में सुधार नहीं होने पर जिलाधिकारी सुरेंद्र सिंह ने बुधवार से मोर्चा संभाला। उन्होंने कलेक्ट्रेट कार्यालय में भ्रमण कर सभी पटलों पर मेज, कुर्सी, कंप्यूटरों पर जमी धूल साफ करने का निर्देश दिया। इससे पहले कचहरी परिसर में अधिकारियों, कर्मचारियों और बार काउंसिल पदाधिकारियों के साथ झाड़ू लगाकर स्वच्छता का संदेश दिया।जिलाधिकारी ने बताया कि वार्डों, तहसील, ग्राम पंचायतों में यह अभियान तब तक चलेगा, जब तक बाहर से आने वाले यह न कहने लगें कि बनारस साफ सुथरा शहर है। सभी कम्युनिटी की सहभागिता सुनिश्चित करने के लिए व्यापारी संगठनों, सामाजिक संगठनों, एनजीओ, संस्थाओं, स्कूल कॉलेजों सहित सिविल डिफेंस को भी जिम्मेदारी दी गई है।

ऐसी जगहों को चिह्नित किया जा रहा है, जिन्हें कूड़ा मुक्त क्षेत्र घोषित किया जा सके। जो लोग इधर उधर कूड़ा फेंक रहे हैं, पहने उन्हें टोकेंगे और नहीं माने तो जुर्माना लगाएंगे। उन्होंने कलेक्ट्रेट स्थित चिकित्सालय में भी जाकर स्वच्छता का जायजा लिया और टूटे दरवाजे को ठीक कराने और वाशरूम की मरम्मत के निर्देश दिए।

Related News

Leave a Comment