राखी लेकर फौजी भाई का इंतज़ार कर रही ये बहन

देहरादून। 15 अगस्त को देश आजादी की वर्षगांठ मना रहा होगा। देश भर में बहनें उस दिन अपने भाई की कलाई पर राखी बांध रही होंगी, किन्तु उत्तराखंड के टिहरी गढ़वाल के धौलागिरी गांव की रहने वाली एक बहन को अपने भाई की प्रतीक्षा है, उसका फौजी भाई कुछ दिन पहले रहस्यमय तरीके से लापता हो गया।

परिवार ने पुलिस से लेकर सीएम दरबार तक बेटे को तलाशने की गुजारिश की, किन कोई सुराग नही लगा। सेना का जवान राइफलमैन धीरज रावत 45 दिनों से लापता है।

धीरज रावत टिहरी गढ़वाल के अंतर्गत आने वाले धौलागिरी गांव का मूल निवासी है जो पिछले साल ही सेना में भर्ती हुआ था। भर्ती होने के बाद धीरज की पलटन नवीं गढ़वाल राइफल अरुणाचल प्रदेश और असम के बीच सिलीगुड़ी में पोस्टेड थी।

धीरज 23 जून से 13 जुलाई तक कि 20 दिन की छुट्टी लेकर अपने गांव के लिए रवाना हुआ था, किन्तु ना तो धीरज घर लौटा और ना ही छुट्टी ख़त्म के बाद वापस अपनी ड्यूटी पर गया। धीरज के रहस्यमय तरीके से लापता होने के बाद उसके परिजनों की चिंता बढ़ती जा रही है। एक बहन को बस ये इंतजार है कि उसका भाई इस राखी पर घर लौट आए।


कृष्णा, धीरज की सबसे छोटी बहन है और 12वीं कक्षा में पढ़ती है, उससे बड़ी बहन सपना का विवाह हो चुका है, जो देहरादून में रहती है। नम आखों से कृष्णा बताती है कि गत वर्ष रक्षा बंधन के त्यौहार पर अपने भाई की कलाई पर राखी बांधी थी। पिता ने टिहरी जिले के चम्बा थामे में लापता होने की रिपोर्ट दर्ज की थी।

डीजी कानून व्यवस्था अशोक कुमार से भी गुहार लगाई,  लेकिन कोई फायदा नही हुआ। परिजन सीएम से भी मिलने गए लेकिन उनसे ठीक से मुलाकात ही नही हो पाई।

Related News

Leave a Comment