चोरी के शक मे पांच भाईयों ने मिलकर आदिवासी मजदूर की जमकर की पिटाई

जशपुर। चोरी के शक मे पांच भाईयो ने मिलकर एक आदिवासी मजदूर की जमकर की पिटाई कर दी। पीडि़त आदिवासी आरोपियो के खिलाफ कुनकुरी थाने मे  रिपोर्ट दर्ज कराई है। आरोपी के रिपोर्ट पर कुनकुरी पुलिस जांच मे जुट गई है। आरोपी मूलत: सरगुजा जिले के सीतापुर तहसील के ग्राम बटईकेला का रहने वाला है।
आदिवासी राधेश्याम प्रभाकर पिछले चार साल से साल से कुनकुरी मे किराये के मकान मे रहकर  कैलाश लोहा दुकान कुनकुरी में मजदूरी काम करता है। पीडि़त राधेश्याम ने पुलिस को बताया कि  13 अगस्त को  रात के   9 बजे के आस-पास दिनेश जैन, राजू जैन , संदीप जैन, संजय जैन एवं दिपी जैन मिलकर उसके साथ गंदी गंदी गाली गलौज कर डण्डा बेल्ट से मारपीट किये है ।  लोहा दुकान में संदीप जैन और राजू ऊर्फ राजेश जैन बैठते है। बगल दुकान में उनका बर्तन का भी दुकान है जिसमें संजय जैन और दिपी जैन बैठते है । प्रतिदिन की भांति  13 अगस्त  को कैलाश लोहा दुकान में काम कर रहा था तभी  छुट्टी होने के समय लगभग 09 बजे दिपी जैन मोटर सायकल से आया और कहा कि बक्शा फैक्टरी गोदाम चलो कहकर बाइक में बैठा कर ले गया और गेट को बंद कर दिया उसके बाद पांचो भाई दुकान में चोरी करते हो कहकर इल्जाम लगाते हुए बांस डण्डा और बेल्ट से पीठ और दाहिने गाल पर, बांये हाथ पर कपडा उतरवा कर बेईज्जत करते हुए मारपीट कर चोट पहुंचाये और गंदी-गंदी गालियां देते हुए  पांचो भाई   धोखा देतो हो कहने लगे। जमीन में लेटाकर पैर के तलवा में भी मारपीट किये । पीडि़त ने पुलिस को बताया कि वह
बोलता रहा कि मैं चोरी नही किया हूँ आप लोग चाहे तो मेरे घर का तलाशी ले सकते हैं लेकिन उन लोग नही माने और  मारपीट करते रहे।  मारपीट के समय में राजू जैन कुर्सी में बैठा था और अपने चारो भाईयो को   को और मारो कहता था उसके बाद सभी भाई  अपने घर के कमरे में मेरा शर्ट पेंट उतरवा कर अंधेरा कमरा में बंद कर दिये थे । बाद में मुझे निकाल कर दो कोरे कागज में जबरदस्ती दस्तखत कराकर रख लिये और मुझे छोड दिये, तब मैं घर आया और अगले दिन  14 अगस्त  को घटना के बारे में अपनी पत्नी को बताया और सरकारी अस्पताल में इलाज कराया हूँ चोट के निशान अभी भी मेरे शरीर पर है। मुझे डर है कि वे लोग जिस कोरे कागजो में मेरा दस्तखत कराये  है मेरे केश करने पर मेरे खिलाफ कुछ भी लिखकर दुरूपयोग कर सकते है।  उक्त घटना से मैं काफी बेईज्जती महसूस कर रहा हूँ । मैं एक आदिवासी वर्ग का आदमी हूँ और थाना जाने पर जान से मारने की धमकी भी दिये है। उक्त घटना से मै काफी भयभीत हूँ। पीडि़त के रिपोर्ट पर कुनकुरी पुलिस दिनेश जैन, राजू जैन, संतोष जैन, संजय जैन व दिपी जैन  के खिलाफ धारा 149, 394, 323, 342, 506(बी) एवं अनुसूचित जाति एवं जनजाति निवारण अधिनियम के तहत अपराध पंजीबद्ध कर जांच मे जुट गई है।

Related News

Leave a Comment