काशी विद्यापीठ मे हंगामा, कई थानों की पुलिस का छापा, अफरातफरी

राकेश पाण्डेय
वाराणसी। महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ में मंगलवार को उस समय हड़कंप मच गया जब एक साथ कई थानों की फोर्स पहुंच गयी।

परिसर में सिगरा थाना प्रभारी आशुतोष ओझा व छात्र नेताओं में कहासुनी होने के बाद पुलिस ने तीन को पकड़ लिया था इसकी जानकारी अन्य छात्रों को हुई तो वह केन्द्रीय कार्यालय पहुंच गये और वहां पर हंगामा करने लगे। चीफ प्राक्टर कार्यालय में हुई पंचायत के बाद तीनों छात्रनेताओं ने माफी मांगी।

इसके बाद जाकर पुलिस ने उन्हें छोड़ा। महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ में छात्र राजनीति इन दिनों चरम पर है।

छात्रसंघ चुनाव की तैयारी के नाम पर अराजक तत्व भी परिसर में प्रवेश कर माहौल खराब करने में जुटे हुए हैं। सिगरा थाना प्रभारी आशुतोष ओझा सुबह परिसर की स्थिति को जांचने पहुंचे थे। थाना प्रभारी ने देखा कि कुछ छात्र बहुत तेज गति से बाइक चलाते हुए आ रहे हैं इस पर उन्होंने बाइक सवार छात्रों को रोका और समझाने लगे। इसी बीच वहां पर छात्रसंघ चुनाव में अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ चुक वाल्मिकी उपाध्याय व पूर्व महामंत्री नीरज पांडेय भी पहुंच गये।

सारे लोग थाना प्रभारी से उलझ गये और उनसे कहासुनी करने लगे। इसी बीच पुलिस ने घटना की जानकारी वायरलैस पर दे दी। इसके बाद परिसर में चेतगंज, जैतपुरा, लक्सा आदि की पुलिस के साथ पीएससी भी पहुंच गयी। पुलिस ने तीनों छात्रनेताओं को पकड़ लिया। थोड़ी देर तक पुलिस चौकी पर छात्र नेताओं को बैठाया गया।

 इसकी जानकारी अन्य छात्रों को हुई तो वह केन्द्रीय कार्यालय के बाहर हंगामा करने लगे। सिगरा पुलिस तीनों छात्रनेताओं को पकड़ कर चीफ प्राक्टर कार्यालय लायी। वहां पर काफी देर पंचायत चलने के बाद तीनों छात्रनेताओं ने माफी मांगी। इसके बाद सिगरा पुलिस ने चेतावनी देते हुए उन्हें वहां से जाने दिया।

Related News

Leave a Comment