321 रन बनाने में भारत के गिर गए थे 108 पर 4 विकेट, फिर इस मुस्लिम खिलाड़ी ने दिलाई जीत

दोस्तों साल 2010 में भारत और न्यूज़ीलैंड के बीच एक बेहद ही रोमांचक मैच खेला गया था। इस मैच में भारत को जीतने के लिए न्यूज़ीलैंड ने 321 रन का लक्ष्य दिया था। हालांकि भारतीय टीम की शुरुआत काफी खराब रही और उनके 4 विकेट 108 रन पर ही गिर गए थे। दोस्तों आइये इस रोचक मैच के बारे में विस्तार से जानते है।

इस मैच में भारत के कप्तान थे गौतम गंभीर जो धोनी की अनुपस्थिति में कप्तानी कर रहे थे। गंभीर ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला लिया।

पहले बल्लेबाजी करने उतरी न्यूजीलैंड टीम को मार्टिन गप्टिल ने धमाकेार शुरुआत दी और पहले विकेट के लिए ब्रेंडन मैकलम के साथ 62 रन जोड़े। लेकिन इसी बीच नेहरा ने लगातार दो ओवरों में 2 विकेट ले डाले और न्यूजीलैंड के 70 रनों पर दो विकेट गिर गए। इससे पहले कि न्यूजीलैंड की पारी संभलती मैकमल को अश्विन ने आउट कर दिया और न्यूजीलैंड के 91 रनों पर तीन विकेट गिर गए।

ऐसी परिस्थिति में रॉस टेलर और स्कॉट स्टायरिश ने पारी संभाली और दोनों ने क्रमशः 44 और 46 रनों की पारियां खेलीं। इसके अलावा अंतिम ओवरों में जेम्स फ्रेंकलिन ने नाबाद 69 गेंदों में 98 रन ठोक दिए। अंततः न्यूजीलैंड ने 50 ओवरों में 7 विकेट पर 321 रन बनाए।

जवाब में बल्लेबाजी करने उतरी टीम इंडिया को गंभीर और पार्थिव ने अच्छी शुरुआत दी और पहले विकेट के लिए 67 रन जोड़े। लेकिन इसी बीच विकटों का पतझड़ लग गया और 108 रनों तक जाते- जाते टीम इंडिया के चार विकेट गिए गए।

ऐसा लग रहा था कि भारत यह मैच हार जाएगा उसके बाद युसुफ पठान बल्लेबाजी करने आये और उन्होंने रोहित शर्मा के साथ मिलकर पांचवें विकेट के लिए 80 रन जोड़े।

लेकिन इसी बीच शर्मा(44) आउट हो गए और टीम इंडिया के 188 रनों पर पांच विकेट गिर गए। छठवें नंबर पर सौरव तिवारी बल्लेबाजी के लिए आए। युसुफ ने सौरव के साथ छठवें विकेट के लिए 133 रन जोड़े और टीम इंडिया को 48.5 ओवरों में 5 विकेट से जीत दिला दी। युसुफ ने उस मैच में मात्र 96 गेंद में ही 123 रन बनाए थे। इस बेहतरीन पारी के लिए उन्हें मैन ऑफ द मैच अवार्ड से भी नवाजा गया।

Related News

Leave a Comment