विवाहिता व दुधमुहे बच्चे की मौत मामला हुआ संदिग्ध

सुल्तानपुर।  बीते वर्ष शादी कर अपने जीवन का नया पड़ाव शुरू करने की चाहत लिए ससुराल पहुँची विवाहिता की हुई मौत का मामला हुआ संदिग्ध.मायके पक्ष ने लगाया आरोप, मेरे बेटी की नही हुई मौत.दहेज की लालचियों ने ली है मेरे बेटी व नाती की जान.मामला कूरेभार थाना क्षेत्र के हसरमपुर गांव से जुड़ा है।

जहा के रहने वाले सरवन पुत्र रामदेव की शादी रेनू पुत्री जैसराज ग्राम धुंधु थाना गोसाईगंज से 4 जुलाई 2018 को हुई। पीडि़त जैसराज की माने तो ससुराल पक्ष की तरफ से लगातार रेनू पर मायके से मोटरसाइकिल मांगने का बनाते थे दबाव.कम दहेज मिलने की वजह से करते थे मारपीट.रेनू लगभग सप्ताह भर पूर्व ही दिया था बच्चे को जन्म।

माँ बेटे की साथ मौत और बिना रेनू के माँ बाप को सूचित किये अंतिम संस्कार बना है चर्चा का विषय.पीडि़त जैसराज ने अपने दामाद सरवन पुत्र महादेव, ससुर महादेव, जेठ संजय पुत्र महादेव, व सास पर उसकी हत्या का आरोप लगाया है.कूरेभार थाने में प्रथनापत्र देते हुए न्याय की गुहार लगाई है.पुलिस जाँच के बाद ही मामले के राज से पर्दा उठेगा.लेकिन विवाहिता व उसके दुधमुहे बच्चे का मायके पक्ष को बिना जानकार ी दिए नाटकीय रूप से अन्तिमसंस्कार ही अपने एक सवालिया निशान खड़ा करता है।

Related News

Leave a Comment