जनता की अदालत में झुका बेरहम, मजलूम फिर बना सकेंगे आशियाने

फैजान कुरैशी, अमरोहा/चुचैला कलां। आखिरकार दो दिन की कड़ी मशक्कत के बाद जनता की अदालत के आगे बेरहम को झुकना ही पड़ा। फैसलानामा के अनुसार वादी भूरे रंगरेज को 52 वर्ग मीटर फ्रंट की भूमि दी गई। जिसके बाद ही सहमति बनी। 
बाकी भूमि पर पीड़ित मजलूम दोबारा से मकान बना सकेंगे। यहां बता दे कि वादिनी जमीला व भूरे रंगरेज की याचिका पर बीती 24 जुलाई को पुलिस व राजस्व की टीम ने जनपद न्यायालय के आदेश पर चुचैला कलां के मोहल्ला आजाद नगर में रहने वाले तीन सगे भाइयों हनीफ, यामीन व तैय्यब सैफी को उनकी बिना बेनामी की भूमि पर से कोर्ट के आदेश पर मकान तोड़कर बेघर कर दिया था। 
उक्त भूमि तीनों भाइयों ने वादी से 18 वर्ष पहले तीन लाख चालीस हजार में खरीदी थी। उक्त भूमि की कीमत अब 50 लाख से ज्यादा बताई जाती है। गांव में सर्वसमाज की हुई पंचायत के बाद उक्त भूमि को मजलूम तीनों भाइयों को वापस कर दी गई। जिस पर अब वे दोबारा से मकान बनाकर जिंदगी गुजर बसर कर सकेंगे। सड़क पर आए मजलूमों ने गांव की पंचायत से भूमि मिलने पर बड़ी राहत महसूस की।


Source : upuklive

Related News

Leave a Comment