'मौत के साए में क ख ग पढ़ रहे मासूम', महकमा मौन

राम मिश्रा, अमेठी। अमेठी में बिजली विभाग हमेशा से ही अपनी लापरवाही के लिए जाना जाता है कस्बा व ग्रामीण क्षेत्रों में झूलते बिजली के तारों से हादसे व मौतों ग्राफ बढ़ता चला जा रहा है। आए दिन बिजली के तार टूटने से लोगों की जाने जा रही है मुसाफिरखाना तहसील क्षेत्र के दर्जन भर विद्यालयों के परिसर से बिजली के तार गुजर रहे हैं तारों में झूल रही मौत के साए तले मासूम अपना भविष्य संवार रहे हैं इसे शिक्षा विभाग की अनदेखी कहा जाये या विद्युत विभाग द्वारा की गयी जानबूझकर गलती।

बांस पर बिजली,जुबान पर क ख ग और जोखिम में जान
बानगी के तौर पर जिले के मुसाफिरखाना विकासखण्ड अन्तर्गत 'धरौली नया-कोट' मार्ग पर स्थित प्राथमिक विद्यालय गल्लामंडी के परिसर में जर्जर बांस के बल्ले के सहारे लटके बिजली के तार स्कूली बच्चों के लिए खतरा बने हुए है बता दे कि यहाँ खंभे के स्थान पर जर्जर बांस लगाकर तार लटकाया गया है और उसी तार के सहारे विद्युतापूर्ति हो रही है स्थानीय लोगो ने कहना है कि बिजली विभाग की लापरवाही व उदासीन रवैये के चलते आए दिन क्षेत्र में दुर्घटनाएं होती रहती हैं।

कभी भी हो सकता है बड़ा हादसा
विद्यालय के प्राचार्य रमेश कुमार ने बताया कि परिसर में बांस के बल्ले के सहारे बिजली के तार से करंट प्रवाहित होती है विद्यालय में 100 से अधिक बच्चे पढ़ते हैं अभिभावको ने बताया कि बरसात होने से पानी से इकठ्ठा होने से बांस लगातार जर्जर हो रहे है जो कभी भी गिर सकते है और कोई भी बड़ी अनहोनी हो सकती है ।

इनका कहना है
मामला संज्ञान में है,विद्युत विभाग को अवगत कराकर उचित व्यवस्था करवाई जायेगी।
अखिलानन्द राय बीइओ मुसाफिरखाना

Related News

Leave a Comment