नक्सलियों ने आरएसएस कार्यकर्ता को मारी गोली

छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले के दुर्गकोन्दुल थाना क्षेत्र में बीती रात नक्सलियों ने कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने के विरोध में आरएसएस कार्यकर्ता दादूसिंह कोरेटिया की कुल्हाड़ी व गोली मारकर हत्या कर दी।  नक्सलियों ने घटनास्थल पर भारी मात्रा में बेनर पोस्टर फेंककर धारा 370 को हटाने के विरोध में 30 अगस्त को भारत बंद का आव्हान किया है।
नक्सलियों ने परचों में लिखा है दादू सिंह आरएसएस के सक्रिय प्रचारक हैं। भाजपा-आरएसएस ब्राह्मण हिंदू फासीवाद संगठन है, आरएसएस की गतिविधियां आदिवासी दलित विरोधी हैं, जो आदिवासी मूल निवासियों के अस्तित्व के लिए खतरा बन गयी है। आजादी व जनवादी लोकतंत्र को मांगने वाले संघर्षों को आरएसएस-भाजपा चला रही है। अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता, संस्थानिक अधिकारों को खत्म किया जा रहा है। आरएसएस-भाजपा ने तानाशाही, हिटलर शाही व्यवहार करते हुए कश्मीर की जनता को बंदी बनाकर, उन्हें मिले संवैधानिक अधिकारों को खत्म कर धारा 370 व 35ए को रद्द कर दिया। 
दादू सिंह ऐसे संगठन से जुड़कर क्षेत्र में अपनी गतिविधियां चला रहा था। कुछ गुंडे लोगों की मदद से जनता को डरा धमका कर आदिवासी विरोधी, जन विरोधी, पार्टी विरोधी गतिविधियों में लिप्त होने के कारण उसकी हत्या की गयी।
परचे में उल्लेख है कि आरएसएस-भाजपा व हिंदू संगठन के नेता व सक्रिय कार्यकर्ताओं को हमारी चेतावनी है कि ऐसे संगठन और गतिविधियों से दूर रहें। अभी तक जो गलतियां की हैं, उसके लिए जनता से माफी मांगे। उत्तर बस्तर डिवीजन कमेटी भाकपा माओवादियों ने, ये पर्चा दादूसिंह कोरेटिया के घर के चारों ओर फेंका है। वहीं नक्सलियों ने भारी मात्रा में बेनर पोस्टर चस्पाकर 30 अगस्त को कश्मीरी अवाम के लिए भारत बंद का आह्वान किया है, साथ ही अनुच्छेद 370 धारा के रद्द करने का विरोध किया है।

Related News

Leave a Comment