स्वास्थ्य सेवाओं पर लापरवाही का ग्रहण

राम मिश्रा, अमेठी। शासन अस्पतालों पर चिकित्सकीय व्यवस्था को जहां चुस्त दुरुस्त बनाने में जुटा हुआ है,वहीं जिले के गांवों में स्थापित उप स्वास्थ्य केंद्रों की दशा दिन प्रति दिन बिगड़ती जा रही है केंद्रों पर तैनात स्वास्थ्य कर्मियों के न मिलने से जरूरत मंद समय पर स्वास्थ्य सेवा के लाभ से वंचित हो जा रहे हैं। विभागीय उदासीनता जिले में कई उप स्वास्थ्य केंद्र बंदी के कगार पर हैं इससे सर्वाधिक असुविधा महिला मरीजों को झेलनी पड़ रही है।

जिले के शाहगढ़ विकासखण्ड क्षेत्र में चिकित्सा व्यवस्था चाक चौबंद बनाने के शासन के दावे की हवा निकल रही है विकासखण्ड के हरदोईया पूरे मंगल में स्थापित उप स्वास्थ्य केंद्र वर्षो से बंद पड़ा है। दुर्दशा के शिकार इस केंद्र पर मरीजों की आमदरफ्त अब नहीं के बराबर है लाखों की कीमत लगाकर बनाये गए इस उपस्वास्थ्य केंद्र पर नजर डाली जाए तो जर्जर भवन स्वास्थ्य सेवा में बाधा बना हुआ है।

समय समय पर इनके खिलाफ ग्रामीण आवाज उठाते हैं, फिर भी विभाग के कानों में जू तक नहीं रेंग रहा है दूर दराज के क्षेत्रों में महिला मरीजों को उप स्वास्थ्य केंद्रों की बदहाली की कीमत चुकानी पड़ रही है प्रसव पीड़ा व अन्य स्त्री संबंधी रोगों का इलाज करना मुश्किल हो रहा है। क्षेत्रीय ग्रामीणों ने प्रशासन से उप स्वास्थ्य केंद्रों की व्यवस्था सुधारने की मांग की है।

कई गांव प्रभावित
आस पास के लोगो ने बताया कि इस उपस्वास्थ्य के जर्जर होने से निकट के गाँव राहा,तेजीपुर,सुदामापुर,बैसन का पुरवा,चमर टोलिया,कारी डीहन का पुरवा आदि गाँव प्रभावित है जहाँ ग्राम प्रधान हरदोईया ने विभाग से गाँव मे स्वास्थ्य सेवाएं को बेहतर किये जाने की मांग की है तो वही स्थानीय निवासी और युवा समाजसेवी विजय प्रताप सिंह,राम प्रकाश सिंह,जगत ओझा, सूबेदार ओझा, अवधेश ओझा,गुड़िया ,यशोमति,प्रेम नारायण कश्यप सहित कई ग्रामीणों ने नए उप स्वास्थ्य केंद्र की मांग अधिकारियो से की है।

इनका कहना है 
इस बाबत सीएमओ डा. राज मोहन श्रीवास्तव ने जानकारी दी कि उपस्वास्थ्य केंद्रो को गतिशील बनाने के लिए संबंधित स्वास्थ्य कर्मियों को समय समय पर हिदायत दी जाती है पूरे मंगल हरदोईया में स्थित स्वास्थ्य केंद्र भवन जर्जर हो चुका है और यहाँ किसी की तैनाती नहीं है।

Related News

Leave a Comment