30 घंटे चली मुठभेड़ में अब तक दो आतंकी ढेर, जवान शहीद

जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में आतंकवादियों और सुरक्षा बलों के बीच 30 घंटे तक चली मुठभेड़ में दो आतंकवादी मारे गये जबकि एक सैनिक शहीद हो गया है। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि शुक्रवार रात से गोलीबारी नहीं होने के बाद शनिवार तड़के सुरक्षा बलों ने शोपियां के पनडुशान गांव में फिर से घेराबंदी एवं तलाशी अभियान शुरू किया। इससे पहले शुक्रवार रात को सुरक्षा बलों ने जैश-ए-मोहम्मद के एक आतंकवादी को मार गिराया था जबकि एक सैनिक शहीद हो गया। उन्होंने कहा, शनिवार तड़के फिर से शुरू हुई मुठभेड़ में सुरक्षा बलों की जवाबी गोलीबारी में दूसरे आतंकवादी की भी मौत हो गई। मृत आतंकवादी का नाम वाची निवासी मंज़ूर अहमद भट है। पुलिस रिकार्ड के अनुसार वह आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन का सदस्य था और पुलिस कई आतंकवादी गतिविधियों में लिप्त होने के कारण उसकी तलाश भी कर रही थी।
सुरक्षाबलों को दरअसल शुक्रवार देर रात आतंकवादियों के शोपियां के पनडुशान गांव में छिपे होने की सूचना मिली थी जिसके बाद राष्ट्रीय राइफल्स (आरआर), जम्मू-कश्मीर पुलिस का विशेष जांच दस्ता और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल ने सयुंक्त रूप से घेराबंदी एवं तलाशी अभियान चलाया था। सुरक्षा बलों के गांव में घुसने के दौरान छिपे हुए आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों पर स्वचालित हथियारों से गोलीबारी शुरू कर दी थी जिसमें सिपाही रामबीर और दीपक घायल हो गये थे। घायक सैनिकों को तुरंत अस्पताल ले जाया गया था जहां रामबीर का निधन हो गया।
मुठभेड़ में मारे गए दूसरे आतंकी की पहचान जैश कमांडर की पहचान जीनत नायकू के रूप में हुई है। कश्मीर में मारा गया जीनत नायकू पहले आतंकी संगठन हिज्बुल मुजाहिदीन के साथ काम करता था। हिज्बुल के साथ काम करने के दौरान ही उसने कई बड़ी आतंकी साजिशें रची थी। बाद में हिज्बुल कमांडर रियाज नायकू से मतभेद होने के बाद जीनत ने जैश के आतंकी संगठन आतंकी संगठन अल बद्र की कमान संभाल ली थी।


Source : upuklive

Related News

Leave a Comment