दिल्ली में कारी ओवैस का कत्ल इंसानियत पर बदनुमा दाग

लुधियाना। बीते दिन पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन के बाहर एक छोटी सी बात पर रेहड़ी-फड़ी वालों की तरफ से कारी ओवैस की पीट-पीट कर हत्या किए जाने पर आज यहां ऐतिहासिक जामा मस्जिद लुधियाना में जुमा की नमाज़ में अपने संबोधन में शाही इमाम पंजाब मौलाना हबीब उर रहमान सानी लुधियानवी ने कहा कि देश में धर्म के नाम पर नफरत चिंता का विषय है इसको खत्म होना चाहिए।

शाही इमाम ने कहा कि बार-बार भीड़ तंत्र की तरफ से धार्मिक नफरत कि वजह से किए जा रहे कत्ल एक सोची समझी साजिश का हिस्सा हैं। उन्होंने कहा कि देश के अलग-अलग भागों से आ रही सियासी कत्लों की खबरें इंसानियत के नाम पर बदनुमा दाग है। उन्होंने कहा कि सरकारें भी खामोश तमाशाई बनी हुई है। शाही इमाम मौलाना हबीब उर रहमान सानी ने कहा कि भारत विभिन्न धर्मों के लोगों का गुलदस्ता है इसमें किसी भी एक रंग को दूसरे पर थोपने की बजाए सभी को साथ लेकर चलने की रीत है जिसे फिर्काप्रस्त ताकतें तोडऩा चाहती हैं।

शाही इमाम ने कहा कि भीड़ तंत्र की तरफ से कत्ल करने की शुरू हुई इस साजिश को किसी भी कीमत पर सहन नहीं किया जा सकता। नफरत और खूनी खेल को बंद करना होगा। शाही इमाम ने कहा कि आज समय बदल चुका है जो ताकते देश में अल्पसंख्यकों को डराना चाहती हैं वह अपना यह ख्याल दिमाग से निकाल दें, हम किसी से डरने वाले नहीं। शाही इमाम ने कहा कि जहां हम गर्व से अपने आप को भारतीय कहते हैं वहीं हम फख्र के साथ मुसलामन भी हैं और हमसे हमारा धर्म दुनिया कि कोई ताकत छीन नहीं सकती।

शाही इमाम ने कहा कि अफसोस की बात है कि कारी ओवैस का कत्ल करने वालों के खिलाफ सिर्फ 304 का मुकद्दमा दर्ज किया गया है जबकि वजह रंजिश साफ नजर आ रही है। एक सवाल के जवाब में शाही इमाम मौलाना हबीब उर रहमान सानी लुधियानवी ने कहा कि पाकिस्तान से खबर आ रही है कि एक सिख लडक़ी का जबरन धर्म परिवर्तन किया गया है जो कि अफसोसनाक है, इस्लाम किसी के साथ भी जबरदस्ती करने का हुक्म नहीं देता।

Related News

Leave a Comment