कर्नाटक संकट : बागी विधायकों को मनाने में जुटी कांग्रेस

बेंगलुरू, 13 जुलाई (आईएएनएस)। कर्नाटक में उत्पन्न राजनीतिक संकट को सुलझाने के लिए कांग्रेस पार्टी अपने कुछ बागी विधायकों को इस बात के लिए मनाने में जुटी हुई है कि वे अपने इस्तीफे वापस ले लें।

पार्टी पदाधिकारियों ने शनिवार को कहा कि राज्य में सत्ताधारी कांग्रेस इस बात का प्रयास कर रही है कि वह जनता दल(सेकुलर) के साथ अपनी मजबूत गठबंधन सरकार को बनाए रखे।

पार्टी प्रवक्ता रवि गौड़ा ने यहां आईएनएस से कहा, हमारे वरिष्ठ नेताओं -उपमुख्यमंत्री जी. परमेश्वरा, डी.के. शिवकुमार और कृष्णा बाईरे गौड़ा- ने आवास मंत्री एम.टी.बी. नागराज को इस्तीफा वापस लेने और सोमवार से विधानसभा सत्र में शामिल होने के लिए लगभग समझा लिया है।

इस्तीफा दे चुके 16 विधायकों में से 13 अकेले कांग्रेस के हैं, जबकि बाकी तीन जद(एस) के हैं।

नगराज ने अपने घर के बाहर संवाददाताओं से कहा कि वह पार्टी के निवेदन पर विचार करेंगे और सोमवार को इस बाबत फैसला करेंगे।

गौड़ा ने कहा कि कांग्रेस नेता आर. रामलिंगा रेड्डी और के. सुधाकर को भी अपने इस्तीफे वापस लेने के लिए राजी करने हेतु उनके भी संपर्क में हैं।

शहर से आठ बार के विधायक रेड्डी ने विधानसभा अध्यक्ष के.आर. रमेश कुमार को छह जुलाई को नौ अन्य विधायकों के साथ इस्तीफा सौंपा था, जबकि नागराज ने सुधाकर के साथ 10 जुलाई को इस्तीफा दिया था।

विधानसभा अध्यक्ष के.आर. रमेश कुमार ने रेड्डी के इस्तीफे को सही प्रारूप में पाया और 15 जुलाई को उन्हें मिलने के लिए बुलाया, ताकि वह उन्हें संतुष्ट कर सकें कि वह स्वेच्छा से इस्तीफा दे रहे हैं और उनका इस्तीफा वास्तविक है।

रेड्डी ने कहा, मैंने अभी यह तय नहीं किया है कि मुझे अपना इस्तीफा वापस लेकर सोमवार से शुरू होने वाले विधानसभा सत्र में भाग लेना है या नहीं।

उन्होंने कहा, मैं निर्णय लेने से पहले पार्टी के लोगों, अपने समर्थकों और परिवार के सदस्यों के साथ मिलकर इस मुद्दे पर चर्चा करूंगा।

--आईएएनएस

Related News

Leave a Comment