राजीव गांधी की हत्या की दोषी की याचिका खारिज

चेन्नई, 18 जुलाई (आईएएनएस)। मद्रास उच्च न्यायालय ने गुरुवार को पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या के मामले में सात दोषियों में से एक नलिनी श्रीहरन की याचिका खारिज कर दी। नलिनी ने याचिका में तमिलनाडु राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित को दोषियों को रिहा करने का निर्देश देने की मांग की थी।

श्रीहरन ने तमिलनाडु सरकार के 2018 के फैसले के आधार पर सभी दोषियों को रिहा करने की मांग की थी।

उच्च न्यायालय ने श्रीहरन की याचिका यह कहते हुए खारिज कर दी कि वह राज्यपाल को कार्रवाई करने का निर्देश नहीं दे सकता।

पुरोहित के कार्यालय ने एक बयान में कहा था कि गांधी की हत्या के दोषियों की रिहाई पर निर्णय एक उचित तरीके से लिया जाएगा।

दोषियों में ए.जी. पेरारिवलन, वी. श्रीहरन उर्फ मुरुगन, टी. सुतेंद्रराजराजा उर्फ संतन, जयकुमार, रॉबर्ट पायस, रविचंद्रन और श्रीहरन की पत्नी नलिनी श्रीहरन हैं। इनमें भारतीय और श्रीलंकाई दोनों हैं।

सभी सात लोग 1991 से जेल में हैं, जब एलटीटीई की महिला आत्मघाती हमलावर ने चेन्नई में एक चुनावी जनसभा में राजीव गांधी की हत्या कर दी थी।

राजीव गांधी की हत्या के लिए लिबरेशन टाइगर ऑफ तमिल इलम (एलटीटीई) पर आरोप लगा था। श्रीलंकाई सेना ने तमिल टाइगरों को 2009 में खत्म कर दिया था।

मद्रास उच्च न्यायालय ने पांच जुलाई 2019 को नलिनी को एक महीने की पेरोल दी जिससे वह अपनी बेटी की शादी की तैयारियां कर सके।

--आईएएनएस

Related News

Leave a Comment