विश्व कप फाइनल के अंपायर धर्मसेना ने ओवरथ्रो पर मानी गलती

नई दिल्ली, 21 जुलाई (आईएएनएस)। आईसीसी विश्व कप-2019 के फाइनल में ओवरथ्रो के चार देने वाले मैदानी अंपायर कुमार धर्मसेना ने स्वीकार किया है कि विश्व कप फाइनल में इंग्लैंड को चार देना उनकी गलती थी और उन्हें एक रन देना चाहिए था।

आईसीसी विश्व कप-2019 के फाइनल में ओवरथ्रो पर दिए गए चार रन को लेकर काफी विवाद रहा है। यह चार रन इंग्लैंड की न्यूजीलैंड की जीत में काफी निर्णायक साबित हुए थे।

फाइनल मैच के अंतिम ओवर में 242 रनों का पीछा कर रही इंग्लैंड के बल्लेबाजों ने दो रन दौड़कर लिए थे और दूसरे रन लेने के दौरान फील्डर का थ्रो बेन स्टोक्स के बल्ले से टकरा पर बाउंड्री पार चला गया था, जिससे इंग्लैंड के खाते में चार रन आए थे।

मैदानी अंपायर कुमार धर्मसेना ने अपने साथी अंपायरों से बात करने के बाद छह रन इंग्लैंड को दिए थे। इंग्लैंड इससे मैच में वापस आ गई थी।

धर्मसेना ने श्रीलंका के अख्बार संडे टाइम्स से कहा, अब टीवी पर रीप्ले देखने के बाद मैं स्वीकार करता हूं कि फैसला करने में गलती हुई थी। लेकिन मैदान पर टीवी रीप्ले देखने की सहूलियत नहीं थी और मुझे अपने फैसले पर कभी मलाल नहीं होगा।

पूर्व अंपायर साइमन टॉफेल ने हालांकि अंपायरों के छह रन देने के फैसले को गलत बताया था और कहा था कि यहां छह रन के बजाय पांच रन देने चाहिए थे, क्योंकि बल्लेबाजों ने दूसरा रन पूरा नहीं किया था।

श्रीलंका के धर्मसेना ने कहा, मैंने संवाद प्रणाली के जरिये लेग अंपायर से सलाह ली, जिसे सभी अन्य अंपायरों और मैच रैफरी ने सुना। वे टीवी रीप्ले नहीं देख सकते थे, उन सभी ने पुष्टि की कि बल्लेबाजों ने दूसरा रन पूरा कर लिया है। इसके बाद मैंने अपना फैसला किया।

--आईएएनएस

Related News

Leave a Comment