कर्नाटक के दो विधायक सर्वोच्च न्यायालय पहुंचे, जल्द शक्ति-परीक्षण की मांग

नई दिल्ली, 21 जुलाई (आईएएनएस)। कर्नाटक विधानसभा में तत्काल विश्वास-मत की मांग करते हुए प्रदेश के दो निर्दलीय विधायक सर्वोच्च न्यायालय पहुंचे।

याचिकाकर्ता आर. शंकर और एच. नागेश ने अदालत को बताया कि उन्होंने कांग्रेस-जनता दल (सेक्यूलर) गठबंधन सरकार से समर्थन वापस ले लिया है।

कर्नाटक में एच. डी. कुमारस्वामी सरकार को गिराने के प्रयास में कांग्रेस और जेडी-एस के कई विधायकों के विधानसभा से इस्तीफा देने या भारतीय जनता पार्टी दामन थामने से राजनीतिक संकट बना हुआ है।

मुख्यमंत्री एच.डी. कुमारस्वामी ने शुक्रवार को शीर्ष अदालत का दरवाजा खटखटाते हुए 17 जुलाई को अदालत द्वारा दिए गए आदेश के संबंध में स्पष्टीकरण की मांग की है। शीर्ष अदालत के 17 जुलाई के आदेश में प्रदेश के 15 बागी विधायकों को सदन से बाहर रहने का विकल्प अपनाने की अनुमति प्रदान की गई है।

कुमारस्वामी ने अदालत को बताया कि विश्वास मत का आयोजन करने को लेकर राज्यपाल हस्तक्षेप कर रहे हैं।

राज्यपाल वजुभाई वाला द्वारा गुरुवार को कुमारस्वामी को बहुमत साबित करने के लिए समय-सीमा दिए जाने के बावजूद शुक्रवार को कर्नाटक विधानसभा को सोमवार के लिए स्थगित कर दिया गया।

--आईएएनएस

Related News

Leave a Comment