प्रवासी पाकिस्तानियों पर नहीं हुआ इमरान की अपील का असर

इस्लामाबाद, 24 जुलाई (आईएएनएस)। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की देश में निवेश करने की एक के बाद दूसरी अपील का भी विदेश में बसे पाकिस्तानियों पर खास असर नहीं हुआ है। पाकिस्तान सरकार ने प्रवासी बॉन्ड जारी कर इसमें निवेश की अपील की थी लेकिन विदेश में बसे पाकिस्तानियों ने इसमें अभी तक महज 2.6 करोड़ डॉलर का ही निवेश किया है।

एक्सप्रेस न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, गंभीर आर्थिक संकट से देश को कुछ राहत दिलाने के लिए पाकिस्तान सरकार पाकिस्तान बनाओ सर्टिफिकेट के साथ सामने आई थी। इस साल जनवरी में खुद इमरान ने इन्हें जारी किया था। सरकार को उम्मीद थी कि इसके जरिए विदेश में बसे पाकिस्तानियों का निवेश उसे चालू खाते के घाटे से उबारने में मददगार होगा।

रिपोर्ट में कहा गया है कि प्रधानमंत्री खान ने इसमें निवेश की अपील भी की। उन्हें उम्मीद थी कि ब्रिटेन, कनाडा और अमेरिका में बसे पाकिस्तानियों से अच्छी प्रतिक्रिया मिलेगी। लेकिन, जून तक के आंकड़े बता रहे हैं कि इसका असर नहीं हुआ है। वित्त मंत्रालय और स्टेट बैंक आफ पाकिस्तान के सूत्रों ने बताया कि विदेश में बसे पाकिस्तानियों में से महज छह सौ ने इस बॉन्ड में कुल जमा 2.6 करोड़ का ही अभी तक निवेश किया है।

प्रधानमंत्री की इस खास योजना को संभाल रहे स्टेट बैंक आफ पाकिस्तान ने इस बारे में आधिकारिक रूप से कुछ नहीं कहा। बैंक प्रवक्ता ने सिर्फ इतना कहा कि प्रवासी बॉन्ड के बारे में कोई जानकारी वित्त मंत्रालय द्वारा ही दी जा सकती है।

इससे पहले बीते साल सितंबर में इमरान खान ने विदेश में बसे पाकिस्तानियों से डायमर-भाषा और मोहमंड बांधों में निवेश का आग्रह किया था लेकिन तब भी कोई उत्साहजनक प्रतिक्रिया नहीं मिली थी।

--आईएएनएस

Related News

Leave a Comment