उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता के सड़क हादसे का मुद्दा लोकसभा में उठा

नई दिल्ली, 29 जुलाई (आईएएनएस)। समाजवादी पार्टी (सपा) के सांसद व उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता की सड़क दुर्घटना के मुद्दे को सोमवार को लोकसभा में उठाया, लेकिन लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने इस घटना पर उन्हें बोलने का अवसर नहीं दिया।

अखिलेश यादव ने यह मुद्दा तब उठाया, जब उनके पार्टी के सदस्य आजम खान को भाजपा सदस्य रमा देवी के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी के लिए माफी मांगने को कहा गया। आजम ने यह टिप्पणी 25 जुलाई को तब की थी, जब रमा देवी सदन की अध्यक्षता कर रही थीं।

अखिलेश ने कहा, आजम खानजी ने वहीं कहा, जो वह कहना चाहते थे। उन्नाव की बेटी के बारे में क्या कहेंगे? हमें उस बारे में भी बात करनी चाहिए।

हालांकि, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने अखिलेश यादव को सड़क दुर्घटना के बारे में बोलने की अनुमति नहीं दी। इस दुर्घटना में पीड़ित व उसके वकील को गंभीर चोटें आई हैं। कार की ट्रक से टक्कर में उसके दो संबंधियों की मौत हो गई।

अखिलेश ने रविवार को आरोप लगाया था कि यह महिला की हत्या की साजिश हो सकती है, जिसने भाजपा विधायक कुलदीप सेंगर पर 2017 में दुष्कर्म का आरोप लगाया था।

पीड़ित अपने वकील महेंद्र सिंह व दो संबंधियों के साथ उत्तर प्रदेश के रायबरेली जा रही थी। दुर्घटना में जीवित बचे दोनों लोगों को जीवन रक्षक प्रणाली पर रखा गया है।

अखिलेश ने इस दुर्घटना की केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से जांच कराने की मांग की है।

इस बीच कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने ट्विटर पर कहा, एक महिला से कथित तौर पर भाजपा विधायक ने दुष्कर्म किया। उसके पिता को पीटा गया और हिरासत में मौत हो गई।

उन्होंने कहा, एक प्रमुख गवाह की रहस्यमय तरीके से बीते साल मौत हो गई। अब उसकी चाची जो एक गवाह थीं, मारी गईं और उसका वकील अब एक ट्रक द्वारा दुर्घटना में गंभीर रूप से घायल है। ट्रक का नंबर प्लेट काला किया गया है। वह खुद इस दुर्घटना में बुरी तरह से घायल है।

उन्होंने कहा कि आरोपी भाजपा का विधायक है और उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार फिर भी निडर उत्तर प्रदेश अभियान चलाने का साहस रखती है।

उन्होंने कहा, क्या इसका अपने नागरिकों के प्रति कोई नैतिक कर्तव्य नहीं है या इसके एजेंडे में यह किसी भी रूप में कभी नहीं था।

सड़क दुर्घटना को एक हैरान करने वाली घटना बताते हुए उन्होंने इस मामले में चल रही सीबीआई जांच के बारे में भी सवाल किया।

उन्होंने सवाल किया, भाजपा विधायक अभी भी भाजपा में क्यों है। पीड़ित व गवाहों की सुरक्षा में कमी क्यों है। क्या इन सवालों के जवाब बगैर भाजपा सरकार से न्याय पाना संभव है?

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को कहा कि अगर उन्नाव दुष्कर्म पीड़ित का परिवार चाहे तो उनकी सरकार हादसे की सीबीआई जांच की सिफारिश करने को तैयार है।

--आईएएनएस

Related News

Leave a Comment