कपिल को ईस्ट बंगाल ने दिया भारत गौरव अवार्ड

कोलकाता, 1 अगस्त (आईएएनएस)। भारत को पहला क्रिकेट विश्व कप दिलाने वाले कप्तान कपिल देव को गुरुवार को फुटबाल क्लब ईस्ट बंगाल ने अपने सर्वोच्च पुरस्कर भारत गौरव अवार्ड से सम्मानित किया है।

ईस्ट बंगाल अपनी 100वीं वर्षगांठ बना रहा है। ट्विटर पर हालांकि इस समारोह के बहिष्कार की मुहिम भी जारी है।

कपिल को ईस्ट बंगाल ने 22 जून 1992 में अपने साथ जोड़ा था और उन्होंने छह दिन बाद मोहन बागान के खिलाफ एक प्रदर्शनी मैच में 27 मिनट क्लब के लिए मैदान पर कदम रखा था।

कपिल ने इस मौके पर कहा, मैं समझ सकता हूं कि एक स्तर तक खिलाड़ी अहम होते हैं। लेकिन अगर किसी क्लब ने 100 साल पूरे किए हैं तो आपको उसके समर्थकों का भी सम्मान करना चाहिए क्योंकि वही क्लब के नाम को लेकर आगे बढ़ाते हैं।

कपिल ने कहा, हम विंबलडन का सम्मान करते हैं क्योंकि उनकी घास पर खेलने की परंपरा है। आप चाहे कहीं से भी आएं अपनी परंपरा नहीं भूलिए। मैं टीम से ज्यादा समर्थकों को पसंद करता हूं क्योंकि उन्होंने 100 साल तक क्लब का साथ दिया।

कपिल ने कहा, परंपरा सब कुछ है। अगर परंपरा नहीं होती तो हम बंगाली, पंजाबी, तमिल के नाम से नहीं जाने जाते।

कपिल ने कहा कि वह अर्जेटीना के महान फुटबालर डिएगो माराडोना के प्रशंसक रहे हैं और 1986 में मैक्सिको में खेले गए विश्व कप में उनका हैंड ऑफ गॉड सबसे बड़ा पल है।

--आईएएनएस

Related News

Leave a Comment