मिलों की लिवाली कमजोर रहने से हाजिर, वायदा कारोबार में टूटा चना

नई दिल्ली, 7 अगस्त (आईएएनएस)। वायदा बाजार में चने के दाम में बुधवार को 1.5 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई। वायदा कारोबार में नरमी रहने और मिलों की लिवाली सुस्त रहने के कारण हाजिर बाजार में भी चने के भाव में गिरावट दर्ज की गई। दिल्ली के लॉरेंस रोड मंडी में चने के दाम में पिछले कारोबारी सत्र के मुकाबले 50 रुपये प्रति कुंटल की नरमी रही।

कृषि उत्पादों का देश का सबसे बड़ा वायदा बाजार नेशनल कमोडिटी एंड डेरिवेटिव्स एक्सचेंज (एनसीडीएक्स) पर बुधवार को अगस्त डिलीवरी चने का अनुबंध 64 रुपये यानी 1.52 फीसदी की गिरावट के साथ 4,160 रुपये प्रति कुंटल पर बंद हुआ, जबकि कारोबार के दौरान चने का भाव एनसीडीएक्स पर 4,155 रुपये प्रति कुंटल तक गिरा।

मंडी सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, दिल्ली की लॉरेंस रोड मंडी में राजस्थान लाइन चने में 50 रुपये की गिरावट के साथ 4,350 रुपये प्रति कुंटल पर कारोबार हुआ, जबकि मध्यप्रदेश लाइन चना 50 रुपये की कमजोरी के साथ 4,275 रुपये प्रति कुंटल बिका।

इंदौर में देसी चने का भाव 4,225 रुपये प्रति कुंटल रहा, जबकि मुंबई में आस्ट्रेलिया से आयातित चना 4,175 रुपये प्रति कुंटल बिका। बीकानेर में देसी चने का भाव 60 रुपये की कमजोरी के साथ 4,150 रुपये प्रति कुंटल रहा।

कारोबारियों ने बताया कि मिलों की लिवाली इस समय कमजोर है, क्योंकि मिल वाले नैफेड द्वारा चने की बिकवाली का इंतजार कर रहे हैं।

केंद्रीय कृषि मंत्रालय द्वारा इस साल जून में जारी तीसरे अग्रिम उत्पादन अनुमान के अनुसार, फसल वर्ष 2018-19 (जुलाई-जून) में देशभर में चने का उत्पादन 100.9 लाख टन है।

फसल वर्ष 2018-19 में केंद्र सरकार ने चने का न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) 4,620 रुपये प्रति कुंटल तय किया था। गौरतलब है कि चना रबी सीजन में उगाई जाने वाली फसल है।

--आईएएनएस

Related News

Leave a Comment