जम्मू-कश्मीर में बदले हालात से सेब की सप्लाई बेअसर : कारोबारी

नई दिल्ली, 11 अगस्त (आईएएनएस)। जम्मू-कश्मीर में कड़ी सुरक्षा-व्यवस्था और बदले राजनीतिक परिदृश्य से प्रदेश से सेब की सप्लाई लगातार निर्बाध रूप से जारी है। यह जानकारी रविवार को दिल्ली के आजादपुर मंडी के कारोबारियों ने दी।

चैंबर ऑफ आजादपुर फ्रूट एंड वेजिटेबल ट्रेडर्स के अध्यक्ष एम. आर. कृपलानी ने आईएएनएस से कहा कि जम्मू-कश्मीर से सेब की आवक उम्मीद से बेहतर हो रही है। बकौल कृपलानी पिछले कुछ दिनों से हजरत बली सेब और आलू बुखारा की आवक जहां 50-60 ट्रक हो रही थी, वहीं शनिवार और रविवार को 70-70 ट्रक की आवक रही। जिसमें आलू-बुखारा की आवक 10-15 ट्रक और हजरतबली सेब की आवक 50 ट्रक से अधिक हो रही है। इसका थोक भाव 25 रुपये से 50 रुपये प्रतिकिलो है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में सुरक्षा-व्यवस्था कड़ी होने से सेब की सप्लाई पर कोई फर्क नहीं पड़ा है, बल्कि उम्मीद से ज्यादा सप्लाई हो रही है।

कृपलानी ने बताया कि इस बार जम्मू-कश्मीर में सेब की पिछले साल से फसल अच्छी है और आने वाले दिनों में वहां से सेब कारोबार अच्छा रहने की उम्मीद है।

कश्मीरी किसानों और कारोबारियों की आशंकाओं के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, बदले राजनीतिक हालात में भय के माहौल का दुष्प्रचार किया जा रहा है, लेकिन लोगों के दिलों में ऐसी भावना नहीं है और वे ऐसी कोई आशंका नहीं पाल रहे हैं, बल्कि वे आने वाले दिनों में प्रदेश की फिजा में बदलाव की राह देख रहे हैं।

गौरलतब है कि केंद्र सरकार ने भारत के संविधान में जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा प्रदान करने वाले अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी कर प्रदेश को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांट दिया है। नए केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर और लद्दाख बने हैं।

सरकार ने इस फैसले के मद्देनजर जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा-व्यवस्था कड़ी कर दी है। हालांकि शुक्रवार से वहां आम जनजीवन सामान्य होने लगा है।

कृपलानी ने कहा कि इस बार फसल अच्छी होने और प्रदेश से निर्बाध सप्लाई होने से वहां के किसानों को अच्छा भाव तो मिलेगा ही, देश के उपभोक्ताओं को भी आगामी त्योहारी सीजन में सस्ता कश्मीरी सेब मिल पाएगा।

देश में सेब का उत्पादन जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड के अलावा अरुणाचल प्रदेश और तमिलनाडु में होता है, लेकिन सबसे ज्यादा उत्पादन जम्मू-कश्मीर में ही होता है। कश्मीरी सेब की सप्लाई पूरे देश में होती है और यह सस्ता भी होता है। हालांकि जम्मू-कश्मीर से सेब की सप्लाई 15 सितंबर से जोर पकड़ती है, जब आजादपुर मंडी में जम्मू-कश्मीर से रोजाना औसतन 300-400 ट्रक सेब की आवक रहती है। जम्मू-कश्मीर से सेब की सप्लाई का पीक सीजन 15 सितंबर से जनवरी तक रहता है।

इस समय आजादपुर मंडी में शिमला से सेब की आवक ज्यादा हो रही है। शिमला एप्पल मर्चेट एसोसिएशन के जनरल सेक्रेटरी अभय सूद ने आईएएनएस को बताया कि इस समय शिमला से रेड गोल्ड और रॉयल डेलिशियस सेब की आवक हो रही है, जोकि तकरीबन 250-300 ट्रक रोजाना रहती है।

सूद ने बताया कि इस समय सेब का भाव 700-1500 रुपये प्रति पेटी है। एक पेटी में 25 किलो सेब होता है।

सूद ने भी कहा कि आगामी त्योहारी सीजन में जम्मू-कश्मीर से सेब की सप्लाई जोरों पर होने से लोगों को सस्ता कश्मीरी सेब मिलेगा।

केंद्रीय कृषि मंत्रालय द्वारा इस साल मई में जारी दूसरे अग्रिम उत्पादन अनुमान के अनुसार, देश में 2018-19 में सेब का उत्पादन 23.87 लाख टन हुआ, जबकि उससे एक साल पहले 2017-18 में देश में सेब का उत्पादन 23.27 लाख टन था।

--आईएएनएस

Related News

Leave a Comment