विकासशील आधारभूत संरचना पर 100 लाख करोड़ रुपये का निवेश करेगी सरकार : मोदी

नई दिल्ली, 15 अगस्त (आईएएनएस)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को कहा कि उनकी सरकार आधुनिक बुनियादी ढांचे को विकसित करने पर 100 लाख करोड़ रुपये का निवेश करेगी।

उन्होंने कहा कि इससे अगले पांच वर्षो में भारतीय अर्थव्यवस्था के आकार को लगभग पांच ट्रिलियन डॉलर तक दोगुना करने में मदद मिलेगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 73वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले की प्राचीर से राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में कहा, अब हम वृद्धिशील परिवर्तन नहीं कर सकते हैं, हमें अब चाहिए कि हम ऊंची छलांग लगाएं।

उन्होंने कहा, देश के बुनियादी ढांचे को नए सिरे से खड़ा करने की जरूरत है। इसलिए हमने फैसला किया है कि हम बुनियादी ढांचे पर 100 लाख करोड़ रुपये का निवेश करेंगे।

उन्होंने कहा, भारतीय अर्थव्यवस्था का आकार आने वाले पांच साल में पांच ट्रिलियन डॉलर के लगभग दोगुना करने का लक्ष्य मुश्किल लग सकता है लेकिन 70 साल की आजादी में हासिल हुए दो ट्रिलियन डॉलर के आकार में जब हमने (भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने) पांच साल में 1 ट्रिलियन डॉलर जोड़ा, तो इस हिसाब से देंखे तो यह लक्ष्य साधना मुमकिन है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत सरकार वर्तमान में स्थिर है, नीति शासन उम्मीद के मुताबिक है और इस वजह से दुनिया भारत के साथ और अधिक व्यापार करने में उत्सुक है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, हमारी अर्थव्यवस्था के मूल तत्व मजबूत हैं। हम कीमतों को नियंत्रण में रखने और विकास को बढ़ाने के लिए काम कर रहे हैं।

उन्होंने कहा, भारत वृद्धिशील प्रगति नहीं चाहता है। आवश्यकता है कि हम ऊंची छलांग लगाएं, हमारी विचार प्रक्रिया का विस्तार करना होगा। हमें वैश्विक मांगों को ध्यान में रखना होगा और अच्छी प्रणाली का निर्माण करना होगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि लोग अब बड़े आकांक्षी हो गए हैं। वर्तमान में लोगों की सोच बदली है।

उन्होंने कहा, पहले लोग केवल रेलवे स्टेशन बनने की योजना से खुश हो जाया करते थे, लेकिन अब वो पूछ रहे हैं कि उनके क्षेत्र में वंदे भारत एक्सप्रेस कब आएगी। लोगों को अब सिर्फ अच्छे रेलवे और बस स्टेशनों से फर्क नहीं पड़ता है, वह अब कहते हैं कि उनके इलाके में अच्छा हवाई अड्डा कब बनेगा।

प्रधानमंत्री ने कहा, पहले लोगों की आकांक्षा अच्छे मोबाइल फोन को लेकर हुआ करती थी, लेकिन अब लोग बेहतर डेटा स्पीड की मांग करते हैं। समय बदल रहा है और हमें इसे स्वीकार करना होगा।

--आईएएनएस



Source : ians

Related News

Leave a Comment