परिजनों के विरोध के बाद उप्र के दो प्रेमी जोड़ों ने दी जान

लखनऊ, 15 अगस्त (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश के कानपुर और हाथरस जिलों में अपने परिवारों के विरोध के कारण दो प्रेमी जोड़ों द्वारा आत्महत्या करने के मामले सामने आए हैं।

कानपुर में अलग-अलग समुदायों से संबंधित युवक व युवती ने बुधवार को आत्महत्या कर ली। प्रेमी जोड़े को जब यह एहसास हुआ कि उनके परिवार इस रिश्ते को स्वीकार नहीं करेंगे तो उन्होंने अपनी जीवनलीला ही समाप्त कर ली।

कुछ समय पहले घर से भागे आजाद अली (22) और कंचन (19) के शव कानपुर के पारस गांव स्थित एक प्राथमिक विद्यालय परिसर में मिले। इन दोनों के पास से एक सुसाइड नोट के साथ ही जहरीले पदार्थ की खाली बोतल भी बरामद हुई है।

अतिरिक्त निरीक्षक (अपराध) नवाब अहमद ने कहा, इस जोड़े ने अपने सुसाइड नोट में लिखा है कि वे इतना बड़ा कदम इसलिए उठा रहे हैं, क्योंकि उनके परिवार ने उनके रिश्ते को स्वीकार नहीं किया है। अली पहले से शादीशुदा थे।

पुलिस अधिकारी ने कहा कि कंचन और अली ने दो महीने पहले अपने घर छोड़ दिए, जिसके बाद युवती के परिवार ने अली के खिलाफ अपहरण का मामला दर्ज किया था। इसके बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया।

अली को हालांकि जमानत पर रिहा कर दिया गया, क्योंकि कंचन ने उसके पक्ष में बयान दिया था। बाद में कुछ दिन पहले यह जोड़ा फिर घर से भाग गया।

वहीं दूसरी घटना में हाथरस जिले में बुधवार को एक जोड़े के शव एक पेड़ से लटके पाए गए।

शादाबाद पुलिस स्टेशन के स्टेशन हाउस ऑफिसर (एसएचओ) अरविंद कुमार राठी ने कहा कि जोड़े ने एक सुसाइड नोट छोड़ा है, जिसमें कहा गया है कि वे आत्महत्या कर रहे हैं। क्योंकि उनके परिवार इस रिश्ते को स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं हैं।

ज्योति (20) और जुगनू (22) की शादी पिछले साल ही उनकी मर्जी के खिलाफ अलग-अलग व्यक्तियों से हुई थी। वे दोनों अपने-अपने घर से निकले और आत्महत्या कर ली। शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।

--आईएएनएस

Related News

Leave a Comment