ममता का आह्वान, आजादी बचाने के लिए शांतिपूर्ण आंदोलन करें

कोलकाता, 15 अगस्त (आईएएनएस)। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को आजादी और लोकतांत्रिक अधिकारों के संरक्षण के लिए शांतिपूर्ण आंदोलन करने का आह्वान किया और कहा कि धर्मनिरपेक्षता ही भारत की पहचान है और एक देश के रूप में इसे जोड़े रखता है।

73वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर आधी रात को किए गए ट्वीट में, ममता ने सभी से भारत को विभाजित न करने, बल्कि इसे एकजुट रखने की शपथ लेने का आग्रह किया।

राष्ट्र और सभी देशवासियों और महिलाओं को सलाम करते हुए, मुख्यमंत्री ने कहा, हमें हमेशा राजनीतिक स्वतंत्रता, आर्थिक स्वतंत्रता, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए प्रयास करना चाहिए और लोकतांत्रिक अधिकारों को संरक्षित करना चाहिए। जब ये नहीं दिए जाते हैं, तो इन अधिकारों को संरक्षित करने के लिए हमें शांतिपूर्ण आंदोलन करने चाहिए।

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा कि लोकतंत्र भारत की सबसे अमूल्य संपत्ति था।

उन्होंने कहा, आइए, आज हम भारत को विभाजित न करने की शपथ लें। हमें भारत को एकजुट करना होगा। जाति या पंथ के बावजूद, हम सभी एक भारत हैं। धर्मनिरपेक्षता एक राष्ट्र के रूप में हमारी पहचान है और यह हमें एकजुट करती है।

--आईएएनएस

Related News

Leave a Comment