संगीतकार खय्याम को राजकीय सम्मान के साथ दी गई अंतिम विदाई (लीड-1)

मुंबई, 20 अगस्त (आईएएनएस)। खय्याम के नाम से मशहूर राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता संगीतकार मोहम्मद जाहिर हाशमी का अंतिम संस्कार मंगलवार शाम को यहां एक मुस्लिम कब्रिस्तान में पूर्ण राजकीय सम्मान के साथ किया गया, जहां बॉलीवुड की प्रमुख हस्तियों ने उन्हें अश्रुपूरित विदाई दी।

खय्याम के पार्थिव शरीर को जुहू में स्थित उनके आवास पर रखा गया था, जहां लोगों ने उनके आखिरी दर्शन कर उन्हें अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की।

खय्याम की तबीयत कुछ समय से खराब थी। उनका निधन सोमवार देर रात को हो गया। वह 92 वर्ष के थे।

उनके प्रवक्ता प्रीतम शर्मा ने बताया कि उनका जनाजा दोपहर साढ़े तीन बजे जुहू में दक्षिणा पार्क सोसायटी में स्थित उनके घर से निकला, जिसमें मुंबई पुलिस की एस्कार्ट टीम के साथ बड़ी संख्या में उनके दोस्तों, बॉलीवुड हस्तियों और प्रशंसकों ने भाग लिया।

फोर बंग्लोज कर्बिस्तान में उनके पार्थिव शरीर को 21 बंदूकों की सलामी के साथ दफनाया गया और मौलवियों ने आखिरी रस्म अदा की।

खय्याम की बीमार पत्नी और जानी-मानी पाश्र्व गायिका जगजीत कौर भी व्हीलचेयर पर मौजूद थीं और अंतिम संस्कार की रस्मों को निभाते हुए कई बार फूट-फूट कर रोईं।

रजा मुराद, जावेद अख्तर, गुलजार, अशोक पंडित, तबस्सुम, संजय खान, पूनम ढिल्लों, विशाल भारद्वाज, सोनू निगम, सुरेश वाडेकर, तलत अजीज, शब्बीर कुमार, नितिन मुकेश, जतिन पंडित और ललित पंडित, उत्तम सिंह, अलका याग्निक सहित कई बॉलीवुड हस्तियों और अन्य लोगों ने उनके अंतिम दर्शन के लिए उनके घर और कब्रिस्तान पर पहुंचे।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खय्याम के निधन पर शोक व्यक्त किया। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस, भारतरत्न लता मंगेशकर, मेगास्टार अमिताभ बच्चन और अन्य हस्तियों ने भी उनके निधन पर शोक व्यक्त किया।

छह दशकों के अपने करियर के दौरान खय्याम फिल्मों और निजी अलबमों की एक समृद्ध विरासत पीछे छोड़ गए हैं।

उन्हें उनकी भावपूर्ण धुनों के लिए पद्मश्री, पद्मभूषण और 1981 की फिल्म उमराव जान के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार समेत कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया था।

--आईएएनएस

Related News

Leave a Comment