पंजाब कांग्रेस ने करतारपुर कॉरिडोर को रोकने की मांग पर स्वामी की निंदा की

चंडीगढ़, 25 अगस्त (आईएएनएस)। पंजाब कांग्रेस के आठ विधायकों ने रविवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद सुब्रमण्यम स्वामी की टिप्पणी को लेकर निशाना साधा, जिसमें उन्होंने कहा कि करतारपुर कॉरिडोर का कार्य राष्ट्र हित में रोक देना चाहिए। इन विधायकों में दो कैबिनेट मंत्री हैं।

नेताओं की स्वामी के बयान की निंदा की। उन्होंने कहा कि स्वामी की करतारपुर कॉरिडोर पर की गई टिप्पणी ने सिखों की भावनाओं को आहत किया है।

एक संयुक्त प्रेस बयान में मंत्रियों सुखजिंदर सिंह रंधावा व भारत भूषण आशू व अन्य विधायकों ने कहा कि भाजपा के सहयोगी शिरोमणि अकाली दल को मुद्दे पर अपना पक्ष साफ करना चाहिए।

उन्होंने कहा, पूरा पंजाब, खास तौर से सिख समुदाय जानता है कि बादल परिवार सिख हितों के लिए काम करने के बजाय सत्ता से चिपके रहना पसंद करता है।

उन्होंने कहा, भाजपा के एक नेता द्वारा कॉरिडोर के विरोध सहित अकाली दल का विभिन्न मुद्दों पर चुप रहना यह साबित करता है कि वह भाजपा के साथ मिली है।

उन्होंने कहा, यह बेहद गहरी साजिश का हिस्सा है कि स्वामी ने यह बयान (शनिवार को) चंडीगढ़ में दिया। अब तथ्य सामने आ चुके हैं और पंजाब के भाजपा नेताओं को इस पर अपनी स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए कि वे अपनी पार्टी के नेता के बयान के साथ हैं या नहीं।

स्वामी ने शनिवार को कहा था कि राष्ट्रहित में करतारपुर कॉरिडोर के काम को रोक देना जाना चाहिए।

इस मुद्दे पर पार्टी का रुख साफ करते हुए राज्य भाजपा अध्यक्ष श्वेत मलिक ने मीडिया से कहा कि यह स्वामी की निजी राय है।

कांग्रेस नेताओं के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए अकाली दल के राष्ट्रीय प्रवक्ता मनजिंदर सिंह सिरसा ने मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह पर करतारपुर कॉरिडोर को लेकर संदेह पैदा करने का आरोप लगाया।

दिल्ली सिख गुरद्वारा कमेटी के अध्यक्ष सिरसा ने ट्वीट किया, कांग्रेस ने हमेशा से सिखों के लिए किए गए सद्भावना कामों को आहत किया है।

उन्होंने कहा, सुखजिदर रंधावा, भारत भूषण आशू व दूसरे कांग्रेस नेताओं को करतारपुर कॉरिडोर पर अपना पक्ष स्पष्ट करने की जरूरत है।

करतारपुर कॉरिडोर से होकर भारतीय सिख श्रद्धालु पाकिस्तान स्थित ऐतिहासिक करतारपुर साहिब गुरुद्वारे में मत्था टेकने जाएंगे।

--आईएएनएस

Related News

Leave a Comment