सत्ता में रहकर कुनबे के विकास में बिजी रहीं सपा, बसपा : श्रीकांत

लखनऊ, 26 अगस्त (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश सरकार के ऊर्जा मंत्री और प्रवक्ता श्रीकांत शर्मा ने सोमवार को कहा कि समाजवादी पार्टी(सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सत्ता में रहकर अपने कुनबे के विकास में ही बिजी रहीं।

श्रीकांत ने सोमवार को जारी एक बयान में कहा, सपा, बसपा के मुखिया 2014 के लोकसभा चुनाव से लगातार अपनी पार्टी की करारी हार देखते-देखते अवसाद ग्रस्त हो गए हैं। ये लोग कनफ्यूज हैं कि किस मुद्दे पर बात करें। जब ये सत्ता में रहे तो अपने कुनबे के ही विकास में व्यस्त रहे।

उन्होंने कहा, सपा, बसपा के नेता जनहित की बात न करें। उन्होंने प्रदेश को गर्त में ही ले जाने का काम किया है। अखिलेश यादव समझ नहीं पा रहे हैं, इसलिए देशहित के मुद्दों पर भी उनकी स्थिति कांग्रेस के पिछलग्गू वाली ही है। वह भ्रम में हैं, इसलिए भ्रम फैला रहे हैं। मायावती भी अपनी सरकार के पापों पर पर्दा नहीं डाल सकतीं।

श्रीकांत ने कहा, पांच साल के शासन में तमाम ऐसे मौकों पर जनता को लूटने वाले चेहरे का भंडा भी फूटा और चुनाव में जनता ने गद्दी से उतार दिया। आज जब प्रदेश में कानून का राज है, बड़े पैमाने पर निवेश से रोजगार आ रहा है तो प्रदेश का विकास इन्हें कष्टदायी लग रहा है, क्योंकि इनका व्यक्तिगत विकास रुक रहा है।

उन्होंने कहा, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अगुवाई में प्रदेश में 4 लाख 68 हजार करोड़ रुपये का एमओयू हुआ है। उसमें से 1़ 50 लाख करोड़ रुपये से अधिक का निवेश हो चुका है। एमओयू का इतना कनर्वजन आज तक उत्तर प्रदेश में कभी नहीं हुआ था।

शर्मा ने कहा, माया, अखिलेश आप दोनों अपना कार्यकाल देख लें, आपके कार्यकाल में निवेशक आते ही नहीं थे। अगर आए भी तो कुछ नहीं किया। योगी सरकार के कार्यकाल में माहौल बदला है। निवेशक आए और लगातार निवेश हो रहा है। यह भ्रष्टाचार और अपराध पर सरकार की जीरो टॉलरेन्स नीति का ही परिणाम है।

ऊर्जा मंत्री ने कहा, बहन जी आपकी सरकार में जेल में डॉक्टरों की नृशंस हत्या तक हुई है। माफियाओं को आपकी पार्टी राजनैतिक संरक्षण देती थी। सपा मुखिया की कुर्सी के पीछे अपराधी बैठते थे। सरकार के मंत्री अपराधियों को अपनी गाड़ियों में घुमाते थे।

उन्होंने कहा, उत्तर प्रदेश में कानून का राज है। यह समझने के लिए मेरठ जोन में पुलिस के अभियान पर ही गौर कर लेते तो यह सवाल ही नहीं करते। आज दुर्दात अपराधी तख्तियां लेकर थानों में यह कसम खाते हुए सरेंडर कर रहे हैं कि वे सुधरना चाहते हैं।

-- आईएएनएस

Related News

Leave a Comment