योगी सरकार विश्व फलक से निवेश लाने की तैयारी में

लखनऊ, 27 अगस्त (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार इन्वेस्टर्स समिट और ग्रांड ब्रेकिंग सेरेमनी के बाद अंतर्राष्ट्रीय फलक से निवेशकों को बुलाने के प्रयास में है। इसके लिए रणनीति बनाई जा रही है। प्रदेश में जल्द ही ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट का आयोजन किया जाएगा।

अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास विभाग के अधिकारी ने नाम जाहिर न करने की शर्त पर बताया, हमारे विभाग द्वारा उत्तर प्रदेश को मजबूत करने की दिशा में कार्य किया जा रहा है। विभाग यह प्रयास कर रहा है कि होने वाले ग्लोबल समिट में देश और दुनिया के बड़े उद्यमी हिस्सा लेकर उप्र में निवेश का ऐलान करें। इसके लिए जल्द देश के साथ-साथ विदेश में भी रोड शो की तैयारी की जा रही है।

उन्होंने बताया कि ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट के लिए औद्योगिक विकास मंत्री और राज्य सरकार के अधिकारियों की टीमें उन देशों का दौरा करेंगी, जहां के उद्यमी यूपी में निवेश कर सकते हैं। इसके लिए कंसल्टिंग एजेंसी उन देशों की सूची तैयार कर रही है, जहां उत्तर प्रदेश के लिए बड़ी संभावनाएं हो सकती हैं।

विभागीय सूत्रों अनुसार, निवेशकों को आकर्षित करने के औद्योगिक विकास की टीम पहले लंदन में रोड शो करेगी। इस दौरान कई बड़ी कंपनियों के प्रतिनिधियों के साथ मुलाकात कर उप्र में निवेश के लिए बताएगी। इसके अलावा कई दूसरे यूरोपीय देशों के अलावा यूएस, दुबई, अस्ट्रेलिया और जापान में यह शो आयोजित करने की योजना पर काम हो रहा है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश में बड़े निवेश लाने को लेकर अपने रूस के दौरे में कई क्षेत्रों में एमओयू भी साइन किए थे। इसके अलावा कई यूरोपीय और एशियाई देशों के राजदूतों ने निवेश की संभावनाओं को लेकर मुख्यमंत्री ने मुलाकात भी की है।

सरकार की ऐसी कई महžवपूर्ण योजनाएं संचालित हो रही हैं, जिनके माध्यम से निवेशकों को अकर्षित किया जा सकता है। सरकार की महत्वपूर्ण योजना डिफेंस कॉरिडोर के लिए बड़े मात्रा मे जमीनें खरीदने का कार्य चल रहा है। इसकी बेहतर कनेक्टविटी के लिए बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे के किनारे करिडोर को विकसित किया जाना है।

प्रदेश के अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने आईएएनएस को बताया, ग्लोबल समिट फरवरी में करने की योजना है। इसके लिए विदेशों से निवेशकों को बुलाने की रणनीति तैयार हो रही है। विदेशों में इसके लिए रोड शो भी आयोजित किए जाने हैं। अभी पहले कौन से देश जाना है इस बारे में योजना बनाई जा रही है। अभी हमारा विभाग अंतर्राष्ट्रीय समिट की रूपरेखा तैयार कर रहा है। यहां पर हर क्षेत्र में अलग-अलग उद्योगों को बढ़ाए जाने की दिशा में सरकार प्रयासरत है। हमें निश्चित तौर पर सफलता भी मिल रही है। उप्र बड़ा राज्य इस बात को ध्यान में रखकर इसे अंतर्राष्ट्रीय स्तर के निवेशकों को बुलाने की योजना बनी है।

--आईएएनएस

Related News

Leave a Comment