गूगल पे की भारत में 1.2 करोड़ किराना स्टोर्स पर नजर

गूगल पे के प्रोडक्ट मैनेजमेंट के निदेशक अंबरीश केंघे के मुताबिक, अधिक से अधिक लोग गूगल पे को अपना रहे हैं और इसका उद्देश्य छोटे और मध्यम उद्यमों (एसएमबीज) और पड़ोस के किराना स्टोर्स को जोड़ना है, ताकि व्यापारी और ग्राहक दोनों को बाधारहित और सुरक्षित तरीके से डिजिटल बनाया जा सके।

केंघे ने आईएएनएस से कहा, यह विचार अधिक से अधिक भारतीयों को सशक्त बनाने का है, ताकि देश में लाखों लोगों के लिए डिजिटल नई नकदी बन जाए। यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस (यूपीआई) आपको पड़ोस के किराना स्टोर्स पर भुगतान करने में मदद करता है। पीयर-टू-पीयर (पी2पी) डिजिटल भुगतान बाजार का नेतृत्व करने के बाद हम फिलहाल पीयर-टू-मर्चेट (पी2एम) बाजार पर ध्यान दे रहे हैं।

देश का करीब 90 फीसदी खुदरा बाजार फिलहाल असंगठित है। अगर यह बाजार आनेवाले दिनों में डिजिटल होता है तो डिजिटल पेमेंट कंपनियों के लिए नए रास्ते खुलेंगे।

एसोचैम-पीडब्ल्यूसी अध्ययन के मुताबिक, भारत में डिजिटल भुगतान 2023 में दोगुने से भी ज्यादा बढ़कर 135.2 अरब डॉलर का हो जाएगा, जिसके इस साल 64.8 अरब डॉलर रहने का अनुमान है। इसमें 20.2 फीसदी की सालाना चक्रवृद्धि दर दर्ज की जाएगी।

--आईएएनएस

Related News

Leave a Comment