मोदी ने द्विपक्षीयता की भावना ध्वस्त की : कुरैशी

इस्लामाबाद, 28 अगस्त (आईएएनएस)। पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने बुधवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने द्विपक्षीयता की भावना को खत्म कर दिया है। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर के लिए विशेष दर्जे को रद्द करने का भारत का निर्णय संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) के प्रस्तावों और अंतर्राष्ट्रीय कानूनों का स्पष्ट तौर पर उल्लंघन है।

पाकिस्तान की राजधानी में पत्रकारों से बात करते हुए कुरैशी ने कहा कि शिमला समझौते के तहत पाकिस्तान और भारत दोनों कश्मीर विवाद को सुलझाने के लिए बाध्य हैं।

जियो न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, कुरैशी ने कहा, मोदी को दुनिया को बताना चाहिए कि पांच अगस्त को लिया गया उनका निर्णय द्विपक्षीय था या एकतरफा। भारतीय प्रधानमंत्री ने द्विपक्षीयता की भावना समाप्त कर दी है।

उन्होंने कहा कि जम्मू एवं कश्मीर में एकतरफा कार्रवाई यूएनएससी के प्रस्तावों और अंतरराष्ट्रीय कानूनों का स्पष्ट उल्लंघन है।

कुरैशी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के लिए विशेष दर्जा रद्द करने के मोदी सरकार के फैसले के खिलाफ भारतीय सुप्रीम कोर्ट में 14 याचिकाएं दायर की गई हैं।

उन्होंने कहा, यह भारतीय सर्वोच्च न्यायालय का टेस्ट है कि वह स्वतंत्र रूप से निर्णय देता है या मोदी के दबाव के कारण फैसला सुनाता है।

विदेश मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री इमरान खान सितंबर में संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने संबोधन के दौरान अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के सामने कश्मीरी लोगों की आवाज बनेंगे।

उन्होंने कहा कि खान इस दौरान महासभा सत्र से इतर द्विपक्षीय बैठकें करेंगे और न्यूयॉर्क में अन्य कार्यक्रमों में भी भाग लेंगे।

--आईएएनएस

Related News

Leave a Comment