नीतिगत पंगुता के लिए जयराम रमेश जिम्मेदार : जावड़ेकर

नई दिल्ली, 29 अगस्त (आईएएनएस)। केंद्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने गुरुवार को संप्रग-2 सरकार के दौरान कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश पर नीतिगत पंगुता पैदा करने के लिए कटाक्ष किया।

जावड़ेकर ने कांग्रेस नेता वीरप्पा मोइली द्वारा नीतिगत पंगुता के लिए रमेश के बारे में की गई टिप्पणी का उल्लेख किया। पांच ट्रिलियन डॉलर अर्थव्यवस्था विषय पर चल रहे एसकेओसीएच सम्मेलन को संबोधित करते हुए जावड़ेकर ने कहा, पर्यावरण मंत्री के तौर पर रमेश के समय एक निर्णय पर काम होने में 640 दिन लग जाते थे, वहीं अब इसमें 100 दिन का समय लगता है।

मोइली ने बुधवार को जयराम रमेश को यूपीए-2 सरकार के दौरान नीतिगत पंगुता के लिए जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि उन्होंने कई बार शासन के सिद्धांतों से समझौता किया।

जावड़ेकर ने कहा कि नीतिगत पंगुता कभी भी स्थायी विकास की अनुमति नहीं देती है।

उन्होंने कहा, निर्णायक नेतृत्व अर्थव्यवस्था को वास्तविक गति प्रदान करता है। यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा प्रदान किया गया है और यहां तक कि दुनिया भी इसे स्वीकार करती है।

मंत्री ने कहा कि लोग अर्थशास्त्र को नहीं समझ सकते हैं, लेकिन उनका मानना है कि भारत 2025 तक पांच ट्रिलियन डॉलर अर्थव्यवस्था के अपने लक्ष्य को प्राप्त करने में सक्षम होगा।

जावड़ेकर ने कहा, इस सरकार ने जीएसटी के रूप में देश की कर प्रणाली के लिए एक क्रांतिकारी कदम उठाया।

उन्होंने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था को एक दिशा में चलाने के लिए सुशासन बेहद जरूरी है।

जावड़ेकर ने कहा, हमने सिस्टम में इतनी तकनीक ला दी है, जिससे पारदर्शिता बढ़ी है। मेरे अपने विभाग में ऑनलाइन तंत्र के बारे में इतनी जागरूकता है कि लोग ट्रैक कर सकते हैं कि कौन सी फाइलें किस अधिकारी के पास एक सप्ताह से अधिक समय से लंबित हैं।

--आईएएनएस

Related News

Leave a Comment