बिहार में भूमि विवाद निपटाने अब पुलिस को प्रशिक्षण

पटना, 13 सितम्बर (आईएएनएस)। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कई मौकों पर कह चुके हैं कि बिहार में होने वाले अपराध के अधिकांश मामले भूमि विवाद से जुड़े होते हैं। मुख्यमंत्री के इस बयान के बाद पुलिस मुख्यालय ने अब पुलिसकर्मियों को भूमि विवाद से निपटने के लिए प्रशिक्षण देने की योजना बनाई है।

पुलिस के एक अधिकारी ने भी माना कि बिहार के थानों में भूमि विवाद की घटनाएं आती हैं, परंतु पुलिस की भूमि से संबंधित जानकारी कम होने के कारण इससे निपटने में उनकी दिलचस्पी कम रहती है। यही कारण है कि पुलिस विभाग ने भूमि सुधार विभाग की मदद से पुलिसकर्मियों को प्रशिक्षण देने की योजना बनाई है।

पुलिस महानिदेशक (प्रशिक्षण) आलोक राज ने कहा, थाने में भूमि विवाद के मामले आते हैं, परंतु पुलिस के पास भूमि से जुड़ी सीमित जानकारी होती है। विवाद के निपटारे के लिए जरूरी है कि पुलिस को जमीन से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियां हों। इसके लिए पुलिसकर्मियों को प्रशिक्षण दिया जाना जरूरी है। इसके लिए थानास्तर पर पुलिस अधिकारियों को प्रशिक्षण देने का निर्णय लिया गया है।

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सहायक अवर निरीक्षक (एएसआई) से इंस्पेक्टर स्तर के पुलिकर्मियों को इसके लिए प्रशिक्षण दिया जाएगा।

उन्होंने कहा, भूमि से जुड़े मसले तकनीकी तौर पर पेंचीदा होते हैं, जो कई पुलिस अधिकारी नहीं समझ पाते हैं। ऐसे में वे मामले सामने आने के बाद विशेष कुछ नहीं कर पाते और मामला बढ़ जाता है। प्रशिक्षण का कार्य जल्द प्रारंभ किया जाएगा। प्रशिक्षण के लिए ए.एन. सिन्हा इंस्टीटयूट से भी इस संबंध में बात की गई है। प्रशिक्षण के लिए राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग के जानकारों से भी मदद ली जाएगी।

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कई मौके पर कहते रहे हैं कि बिहार में होने वाले अपराध में कम से कम 60 प्रतिशत मामले भूमि विवाद से जुड़े होते हैं।

--आईएएनएस

Related News

Leave a Comment