स्वामी चिन्मयानंद कांड : आरोप लगाने वाली छात्रा को कोर्ट ने जेल भेजा (लीड-2)

शाहजहांपुर, 25 सितंबर (आईएएनएस)। पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद पर यौन शोषण का आरोप लगाने वाली छात्रा को रंगदारी के मामले में स्थानीय कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। इससे पहले एसआईटी टीम ने बुधवार सुबह लड़की को गिरफ्तार किया था।

गिरफ्तार करने के बाद एसआइटी उसको चौक कोतवाली ले गई। वहां से उसे मेडिकल के लिए जिला अस्पताल ले जाया गया, जिसके बाद एसआईटी छात्रा को लेकर कोर्ट पहुंची। सीजेएम के छुट्टी पर होने के कारण एसीजेएम कोर्ट में छात्रा को पेश किया गया। कोर्ट ने छात्रा को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेजने का आदेश दिया।

छात्रा ने मंगलवार को एक स्थानीय अदालत में अग्रिम जमानत याचिका दाखिल की थी, जिसे अदालत ने विचारार्थ स्वीकार कर लिया। इस पर 26 सितंबर को सुनवाई होगी। उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने बताया कि कानून की छात्रा को एसआईटी (विशेष जांच दल) ने कथित तौर पर रंगदारी वसूलने की कोशिश करने के आरोप में गिरफ्तार किया है।

छात्रा के वकील अनूप त्रिवेदी ने पत्रकारों को बताया कि एडीजे सुधीर कुमार की अदालत ने छात्रा की अग्रिम जमानत याचिका विचारार्थ स्वीकार कर ली। अदालत ने इस मामले से संबंधित सभी रिकॉर्ड 26 सितंबर को तलब किए हैं। त्रिवेदी ने कहा कि यह राहत की बात है कि अदालत ने अग्रिम जमानत याचिका विचारार्थ स्वीकार कर ली है और सामान्यत: ऐसे मामलों में गिरफ्तारी नहीं होती है।

छात्रा पर चिन्मयानंद से फिरौती मांगने का आरोप था। फिरौती का एक वीडियो सामने आया था, जिसके बाद छात्रा और उसके तीन साथियों पर पुलिस ने फिरौती मांगने का केस दर्ज किया था।

छात्रा सोमवार देर रात पिता के साथ प्रयागराज से वापस घर पहुंची थी। लेकिन इसी बीच एसआईटी ने बुधवार को उसे गिरफ्तार कर लिया। मंगलवार को कोर्ट में पेश होने के दौरान एसआईटी ने पूरे समय छात्रा को अपनी निगरानी में रखा था।

हालांकि, एफआईआर में नाम आने के बाद शिकायतकर्ता लड़की के परिवार वाले भी कानूनी मदद की कोशिशों में जुटे हैं। शिकायतकर्ता लड़की ने अपने वकील के साथ जाकर खुद अग्रिम जमानत के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट के सामने मंगलवार को याचिका दायर की थी।

--आईएएनएस

Related News

Leave a Comment