आजम खां रामपुर में पत्नी तंजीन के नामांकन में शामिल हुए

रामपुर, 30 सितंबर (आईएएनएस)। समाजवादी पार्टी (सपा) के वरिष्ठ नेता व सांसद आजम खां आज करीब दो माह बाद गृह जनपद रामपुर पहुंचे। इस दौरान उन्होंने रामपुर से विधानसभा का उपचुनाव लड़ रहीं अपनी पत्नी डा़ॅ तजीन फातिमा का नामांकन भी कराया।

तंजीन फातिमा पर बिजली विभाग ने हमसफर रिसॉर्ट में बिजली चोरी के मामले में जुर्माना लगाया था। नामांकन के लिए बिजली विभाग की एनओसी जरूरी थी। यही वजह है कि तंजीन फातिमा ने पहले बिजली विभाग में 30 लाख रुपये का जुर्माना भरा और उसके बाद अपना नामांकन पत्र भरा। उन्होंने सोमवार सुबह जुर्माना भरकर एनओसी ली, फिर दोपहर में पति आजम खां के साथ नामांकन पत्र दाखिल किया।

फातिमा ने इस मौके पर पत्रकारों से कहा, अभी उनका राज्यसभा में एक वर्ष से ज्यादा का समय बाकी है। लेकिन पिछले चार माह से जिस तरह से रामपुर वासियों को खासकर सपा कार्यकर्ताओं का उत्पीड़न हो रहा है। इस कारण उन्हें चुनाव मैदान में आना पड़ा है।

उन्होंने कहा कि उनके परिवार, शौहर और बेटों पर झूठे मुकदमे हुए। राज्यसभा में राष्ट्रीय मुद्दे उठते हैं। लिहाजा विधायकी का चुनाव लड़कर वह सरकार के जुल्म का जवाब देंगी। तजीन फातिमा ने अपनी जीत का भरोसा भी जताया।

ज्ञात हो कि रामपुर में भू-माफिया घोषित होने के साथ ही 85 मुकदमों में नामजद आजम खां करीब दो महीने बाद सोमवार को रामपुर पहुंचे। आजम खां इससे पहले 12 अगस्त को बकरीद पर सार्वजनिक रूप से दिखे थे।

आजम खां को अपने बीच देखकर कार्यकर्ताओं में भी जोश भर गया। इस दौरान काफी देर तक आजम खां के समर्थन में नारे भी लगे।

गौरतलब है कि समाजवादी पार्टी के सांसद आजम खां रामपुर सदर सीट से नौ बार विधायक रहे हैं। इस बार परिस्थितियां अलग हैं। 84 से ज्यादा मुकदमों में फंसे आजम खां और उनके परिवार के लिए यह सीट प्रतिष्ठा का भी विषय बन गई है। पार्टी को लगता है कि मुस्लिम बहुल इस सीट पर आजम खां के खिलाफ हो रही कार्रवाई से सहानुभूति का लाभ मिलेगा। इसी कारण आजम की पत्नी का अभी राज्यसभा का पूरा एक वर्ष का कार्यकाल बचा होने के बावजूद उन्हें चुनाव मैदान में उतारा गया है।

-- आईएएनएस

Related News

Leave a Comment