बिकवाली के दबाव में 434 अंक टूटा सेंसेक्स, 1.23 फीसदी लुढ़का निफ्टी (राउंडअप)

मुंबई, 4 अक्टूबर (आईएएनएस)। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा देश की आर्थिक विकास दर अनुमान में कटौती करने से शेयर बाजार में शुक्रवार को बिकवाली का भारी दबाव और प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 434 अंकों की गिरावट के साथ बंद हुआ। निफ्टी में भी एक फीसदी से ज्यादा की गिरावट आई।

आरबीआई द्वारा प्रमुख ब्याज दर (रेपो रेट) में कटौती से भी घरेलू शेयर बाजार को सहारा नहीं मिला और बाजार में लगातार पांचवें दिन गिरावट का दौर जारी रहा।

सेंसेक्स शुक्रवार को 433.56 अंकों यानी 1.14 फीसदी की गिरावट के साथ 37,673.31 पर बंद हुआ और निफ्टी 139.25 अंकों यानी 1.23 फीसदी की गिरावट के साथ 11,174.75 पर बंद हुआ।

हालांकि कारोबार के आरंभ में बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित सूचकांक सेंसेक्स तकरीबन 300 अंकों की तेजी के साथ 38,401.49 पर खुला और 38,403.54 तक उछला, लेकिन आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की बैठक के नतीजे आने के बाद बाजार में बिकवाली का भारी दबाव बढ़ने से सेंसेक्स टूटकर 37,633.36 पर आ गया। पिछले सत्र में यह 38,106.87 पर बंद हुआ था।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित सूचकांक निफ्टी भी 74 अंकों से ज्यादा की बढ़त के साथ के साथ 11,388.45 पर खुला और 11,400.30 तक उछला। लेकिन बाद में लुढ़क कर 11,158.35 पर आ गया। पिछले सत्र में निफ्टी 11,314 पर बंद हुआ था।

सेंसेक्स के 30 शेयरों में से 10 में तेजी रही जबकि 20 शेयर गिरावट के साथ बंद हुए। सबसे ज्यादा तेजी वाले पांच शेयरों में ओएनजीसी (1.01 फीसदी), इन्फोसिस (0.99 फीसदी), टीसीएस (0.96 फीसदी), टेक महिंद्रा (0.84 फीसदी) और एनटीपीसी (0.60 फीसदी) शामिल रहे।

सेंसेक्स के सबसे ज्यादा गिरावट वाले पांच शेयरों में कोटक बैंक (3.32 फीसदी), आईसीआईसीआई बैंक (3.17 फीसदी), एचडीएफसी बैंक (2.97 फीसदी), टाटा मोटर्स (2.37 फीसदी) और एलएंडटी (2.35 फीसदी) शामिल रहे।

बीएसई मिडकैप सूचकांक 130.69 अंकों यानी 0.94 फीसदी की गिरावट के साथ 13,713.79 पर बंद हुआ और स्मॉलकैप सूचकांक 101.52 अंकों यानी 0.79 फीसदी फिसल कर 12,808.66 पर रहा।

बीएसई के 19 सेक्टरों में से 17 सेक्टरों के सूचकांकों में गिरावट दर्ज की गई जबकि दो सेक्टरों के सूचकांक बढ़त के साथ बंद हुए। सबसे ज्यादा गिरावट वाले सूचकांकों में बैंक इंडेक्स (2.45 फीसदी), उपभोक्ता टिकाऊ वस्तु (2.10 फीसदी), पूंजीगत वस्तु (1.95 फीसदी), आधारभूत सामग्री (1.78 फीसदी) और वित्त (1.78 फीसदी) शामिल रहे, जबकि सूचना प्रौद्योगिकी (0.74 फीसदी) और टेक (0.32 फीसदी) के सूचकांक बढ़त के साथ बंद हुए।

बीएसई पर कुल 3,106 शेयरों में काराबार हुआ जिनमें से 1,090 में तेजी रही जबकि 1,750 शेयर गिरावट के साथ बंद हुए। कारोबार के आखिर में 266 शेयर बिना किसी बदलाव के बंद हुए।

आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति ने वाणिज्यिक बैंकों के लिए रेपो (अल्पावधि ऋण) दर में 25 आधार अंकों की कटौती कर उसे 5.40 फीसदी से घटाकर 5.15 फीसदी कर दिया।

लेकिन, केंद्रीय बैंक ने चालू वित्त वर्ष 2019-20 के लिए सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर का अनुमान शुक्रवार को 6.9 फीसदी से घटाकर 6.1 फीसदी कर दिया है।

जीडीपी वृद्धि दर अनुमान में कटौती से निवेशकों का मनोबल टूटा जिससे बाजार में गिरावट आई।

--आईएएनएस

Related News

Leave a Comment