पारुल शेखावत ने थामी बोइंग 777 विमान की कमान

राजस्थान की बेटियां सफलता की नित नई इबारत लिख रही हैं. ऐसी ही एक और इबारत लिखी है राजस्थान के शेखावाटी अंचल की बेटी पारुल शेखावत ने.

प्रदेश की पहली महिला कॉमर्शियल पायलट शेखावाटी की बेटी पारुल ने गुरुवार को जयपुर के अंतररष्ट्रीय हवाई अड्डे से पहली बार बोइंग विमान 777 से 340 हज यात्रियों को लेकर जेद्दाह के लिए उड़ान भरी.

पारुल शेखावत शेखावाटी के झुंझुनूं जिले के बड़ा गांव निवासी डॉ. नरपत सिंह शेखावत की पुत्री हैं. यह पहली बार हुआ है कि जब जयपुर एयरपोर्ट पर बोइंग 777 विमान लैंड हुआ हो. मार्च 2017 तक रनवे विस्तार से पहले इसकी लैंडिंग संभव ही नहीं थी. उसके बाद भी अभी तक बोइंग 777 जयपुर में नहीं उतरा था. लेकिन इस बार हज यात्रियों के लिए बोइंग 777 विमान जयपुर एयरपोर्ट पर उतरा है. जयपुर से बोइंग 777 से हज यात्रियों को ले जाने की जिम्मेदारी मिली पारुल शेखावत को.

अभी तक हज यात्रियों को बोइंग 747 विमान से ले जाया जा रहा था. जयपुर से हज यात्रियों की फ्लाइट्स 18 जुलाई से शुरू हुई थी. बोइंग 747 दो मंजिला विमान है. उसमें 420 यात्री एक साथ सफर कर सकते हैं. वह 4 इंजन वाला विशाल विमान होता है. जबकि बोइंग 777 विमान 2 इंजनयुक्त है और इसमें 340 यात्री एक साथ सफर कर सकते हैं. लेकिन यह बोइंग 747 से बड़े आकार का होता है. पारुल के पति भी एयर इंडिया में सीनियर पालयट हैं. पारुल शेखावत के पिता डॉ. नरपत सिंह शेखावत प्रदेश के सबसे बड़े सवाई मानसिंह अस्पताल के अधीक्षक रह चुके हैं.

Related News

Leave a Comment