9/11 हमले के बाद अमेरिका का साथ देना पाकिस्तान की सबसे बड़ी भूल

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने सोमवार को कहा कि उनके देश ने 9/11 हमले के बाद अमेरिका का साथ देकर सबसे बड़ी भूल की।

उन्होंने जनरल परवेज मुशर्रफ के अमेरिका का साथ देने के फैसले का जिक्र करते हुए कहा कि पिछली सरकारों को वैसे वादे करने ही नहीं चाहिए थे, जो वह पूरे नहीं कर सके।

इमरान ने कहा कि आतंकवाद के खिलाफ अमेरिका द्वारा छेड़ी गई जंग में 70 हजार पाकिस्तानी मारे गए। इसके बावजूद अफगानिस्तान में अमेरिका की जीत हासिल नहीं करने पर हमें जिम्मेदार ठहराया गया।

1980 के दशक में तत्कालीन सोवियत संघ से लड़ने के लिए कई समूहों को प्रशिक्षित किया गया था। बाद में अमेरिका जब अफगानिस्तान में लड़ने आया तो उन गुटों को आतंकवादी घोषित कर दिया।

Related News

Leave a Comment