भारत के खिलाफ उतरे आमिर खान, कश्मीर पर किया पाकिस्तान का समर्थन

कश्मीर को लेकर अपनी हरकतों से बाज नहीं आने वाला पाकिस्तान अब कश्मीर को लेकर भारत के आंतरिक मामले में टांग अड़ाने वाला पाकिस्तान आये दिन ऐसी हरकतें कर रहा है जिससे वह अपनी फजीहत खुद करवा रहा है। अब पाकिस्तान के एक खिलाड़ी ने भी इस मामले में दखलअंदाजी की है। पाकिस्तानी मूल के ब्रिटिश मुक्केबाज भी कश्मीर विवाद में कूद पड़े हैं। आमिर ने नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पास के इलाके का दौरा किया।

नियंत्रण रेखा से तीन किलोमीटर पहले एक गांव में उनकी इस यात्रा का प्रबंध पाकिस्तानी सेना ने किया और उन्होंने इसके लिए पाकिस्तानी सेना का आभार जताया।

8 दिसंबर 1986 को जन्मे आमिर इकबाल खान ब्रिटिश पेशेवर बॉक्सर और प्रमोटर हैं। वह एक पूर्व एकीकृत लाइट-वेल्टरवेट विश्व चैंपियन हैं, जिन्होंने 2009 से 2012 (लेटर सुपर) का खिताब और 2011 में डब्ल्यूबीए खिताब अपने नाम किया था। क्षेत्रीय स्तर पर, उन्होंने 2007 से 2008 तक राष्ट्रमंडल लाइट वैट टाइटल अपने नाम किया। 2014 से 2016 तक डब्ल्यूबीसी सिल्वर वेल्टरवेट खिताब, और एक बार 2016 में मिडिलवेट विश्व खिताब के लिए चुनौती दी गई थी। अगस्त 2019 तक, बॉक्सआरईसी द्वारा खान को दुनिया के नौवें सबसे अच्छे सक्रिय वेल्टरवेट के रूप में स्थान दिया गया है।


शौकिया के रूप में, खान ने 2004 के ओलंपिक में लाइटवेट डिवीजन में रजत पदक जीता, जो 17 साल की उम्र में ब्रिटेन का सबसे कम उम्र का मुक्केबाजी ओलंपिक पदक विजेता बना। वह 22 साल की उम्र में डब्ल्यूबीए का खिताब जीतने वाले सबसे कम उम्र के ब्रिटिश पेशेवर विश्व चैंपियन भी हैं। 2007 में, उन्हें ईएसपीएन वर्ष की संभावना नामित किया गया था।

Leave a Comment