आचार्य बालकृष्ण बनें अखाड़े के महामंडलेश्वर: नरेंद्र गिरी

हरिद्वार। अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेंद्र गिरी का कहना है कि वह चाहते हैं कि आचार्य बालकृष्ण निरंजनी अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर बनें। यह प्रस्ताव उन्होंने आचार्य बालकृष्ण को दो साल पहले दिया था। कहा कि अब तक आचार्य बालकृष्ण की इस मामले में मौन स्वीकृति ही नजर आ रही है।

शनिवार को बिल्केश्वर रोड पर एक धार्मिक कार्यक्रम के दौरान पत्रकारों से बातचीत में नरेंद्र गिरी ने कहा कि अगर आचार्य बालकृष्ण आचार्य महामंडलेश्वर बनने के इच्छुक हैं तो उन्हें विधिवत संन्यास धारण करना होगा।

उनके संन्यास लेने के बाद ही अखाड़ा औपचारिकताओं को आगे बढ़ाने का काम करेगा। नरेंद्र गिरी ने कहा कि दो साल पहले उन्होंने जब ये प्रस्ताव आचार्य बालकृष्ण के समक्ष रखा था तो उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया था।

नरेंद्र गिरी ने कहा कि आयुर्वेद के क्षेत्र में आचार्य बालकृष्ण के अतुलनीय योगदान से देश दुनिया में आयुर्वेद को नई पहचान मिली है। आचार्य बालकृष्ण आयुर्वेद में बेहतर जानकारियां रखते हैं।

निरंजनी अखाड़े का आचार्य महामंडलेश्वर बनाने के प्रस्ताव पर आचार्य बालकृष्ण ने सीधे तौर पर टिप्पणी तो नहीं कि लेकिन उनका कहना है कि संतों का आशीर्वाद उन्हें पहले से मिलता आ रहा है। संत समाज भारतीय संस्कृति के संरक्षण और संवर्द्धन में जुटा है।

Leave a Comment