कश्मीर से अब आतंकवाद का होगा खात्मा, विकास के रास्ते बढ़ेगी घाटी: अमित शाह

चेन्नई। जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 हटाए जाने को लेकर अमित शाह हमेशा से ही दृढ़ प्रतिज्ञ थे। इस ऐतिहासिक फैसले पर केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि अनुच्छेद 370 से कश्मीर को कोई फायदा नहीं हुआ। इसे बहुत पहले खत्म कर देना चाहिए था। बिल को पहले राज्यसभा में पेश किए जाने पर उन्होंने कहा कि राज्यसभा में उन्हें बिल पर हंगामे का डर था, इसलिए उन्होंने वहां पहले बिल पेश किया था।
गृह मंत्री ने रविवार को चेन्नई में कहा कि संविधान के अनुच्छेद 370 के तहत जम्मू कश्मीर को मिल रहे विशेष दर्जे को हटाने से क्षेत्र में आतंकवाद का खात्मा होगा और वह विकास के मार्ग पर अग्रसर होगा। उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू पर एक किताब लिस्निंग, लर्निंग एंड लीडिंग का यहां विमोचन करने के मौके पर शाह ने कहा कि उनका दृढ़ता से यह मानना था कि जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को हटाया जाना चाहिए क्योंकि इससे देश को कोई फायदा नहीं था।
अमित शाह ने बताया, मैं दृढ़ था कि अनुच्छेद 370 हटाया जाना चाहिए। अनुच्छेद 370 हटाने के बाद कश्मीर में आतंकवाद खत्म होगा और वह विकास के पथ पर अग्रसर होगा। आगे अमित शाह ने बताया, आज मैं यहां न गृह मंत्री के नाते आया हूं, न भाजपा के अध्यक्ष के नाते आया हूं। राजनीति के क्षेत्र में काम करने वाले एक विद्यार्थी को तौर पर पूरा जीवन आदर्श तरीके से काम कैसे करना चाहिए इसकी प्रतिमूर्ति सिर्फ वेंकैया नायडू जी के जीवन की अनुमोदना क्लोट करने आया हूं।
साथ ही उन्होंने बताया, जीवन में सुनना, सीखना और समाज का नेतृत्व करना ये कैसे कर सकते हैं, इसका एक आदर्श श्री वेंकैया नायडू ने इस देश की युवा पीढ़ी के सामने रखा है। मैं आज जरूर एक बात बताना चाहता हूं कि वेंकैया जी का जीवन विद्यार्थी काल से लेकर आज उपराष्ट्रपति तक पहुंचने का जीवन राजनीति में काम करने वाले सारे युवा कार्यकर्ताओं के लिए अनुकरणीय है।

Related News

Leave a Comment