खरीदारी हेतु प्लास्टिक की थैलियों का इस्तेमाल ना करें महिलाएं: शाह

अहमदाबाद। जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के विभिन्न प्रावधानों को हटाने के बाद गुजरात के अपने पहले दौरे पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने गुरुवार को 'मिशन मिलियन ट्री' कार्यक्रम के समापन समारोह में भाग लिया। इस कार्यक्रम का आयोजन अहमदाबाद नगर निगम ने किया। विश्व पर्यावरण दिवस यानी 5 जून को शुरू किए गए इस मिशन का समापन अहमदाबाद में 10,87,000 पौधों के रोपण के साथ हुआ।
इस अवसर पर केंद्रीय गृह मंत्री ने महिलाओं से किराने के सामान और सब्जी की खरीदारी के लिए प्लास्टिक की थैलियों का इस्तेमाल न करने का आह्वान किया। शाह ने लोगों को पेरिस जलवायु समझौते का स्मरण कराते हुए विश्व भर में कार्बन डाई ऑक्साइड और कार्बन मोनो ऑक्साइड के उत्सर्जन के कारण ओजोन की परत के क्षय से जुड़े खतरे को रेखांकित किया।
इस अवसर पर केंद्रीय गृह मंत्री ने वर्ष 2019 में दूसरी बार सत्ता संभालने के समय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा 'जल शक्ति' के लिए एक अलग मंत्रालय का गठन किए जाने का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि यह कदम आने वाले दिनों में जल संरक्षण, जल संचयन, अपशिष्ट जल के शोधन और सिंचाई संबंधी नवाचारों सहित पर्यावरण संरक्षण के विभिन्न मोर्चों पर पूरी दुनिया का मार्गदर्शन करेगा।
शाह ने शहर में 8 एसी इलेक्ट्रिक बसों को झंडी दिखाकर रवाना किया और इसके साथ ही एक बैटरी चार्जिंग केंद्र का उद्घाटन भी किया। अहमदाबाद नगर निगम के प्रयासों की सराहना करते हुए शाह ने कहा कि अहमदाबाद ने देश में निर्मित बसों के साथ इलेक्ट्रिक वाहनों का परिचालन बढ़ाने में अगुवाई की है। उन्होंने नागरिक निकायों से तकनीकी जरूरतों जैसे कि बैटरी बदलने के ऐसे उपयुक्त केंद्रों की स्थापना करने की दुरुस्त तैयारी करने की अपील की जिससे समय की बचत हो और इसके साथ ही ऊर्जा किफायती भी हो।
उल्लेखनीय है कि केंद्रीय गृह मंत्री ने अपने संसदीय निर्वाचन क्षेत्र की आवासीय सोसायटियों के अध्यक्षों/सचिवों को अपनी-अपनी सोसायटियों में कम से कम ऐसे 5 पौधे लगाने के लिए एक विशेष पत्र लिखा है जो 100 साल से भी अधिक समय तक जीवित रहते हैं। इनमें बरगद के पेड़, पीपल के पेड़ इत्यादि शामिल हैं। इस बारे में मिली प्रतिक्रिया पर संतोष व्यक्त करते हुए गृह मंत्री ने कहा कि उन्हें ऐसे 3216 सकारात्मक जवाब प्राप्त हुए हैं जिनमें सोसायटियों ने पेड़ों में नियमित रूप से पानी देने के साथ-साथ उनका समुचित रख-रखाव करने की भी व्यवस्था करने की जानकारी दी है।
इस अवसर पर गुजरात के मुख्यमंत्री विजय भाई रूपाणी ने केंद्रीय गृह मंत्री को आश्वासन दिया कि गुजरात इलेक्ट्रिक वाहनों का परिचालन बढ़ाने में देश की अगुवाई करेगा। उन्होंने कहा कि फिलहाल अहमदाबाद में 50 इलेक्ट्रिक बसों के परिचालन का प्रावधान किया गया है, लेकिन जल्द ही अकेले अहमदाबाद शहर में 500 इलेक्ट्रिक बसों का परिचालन शुरू कर दिया जाएगा। उन्होंने गुजरात राज्य को हरित, स्वच्छ, पर्यावरण अनुकूल और प्रदूषण मुक्त बनाने की बात दोहराई।
रूपाणी ने जानकारी दी कि इलेक्ट्रिक बसें स्वदेश में ही निर्मित की गई हैं जो 'मेक इन इंडिया' की अवधारणा के अनुरूप है। इस वर्ष पर्याप्त वर्षा होने पर संतोष व्यक्त करते हुए रूपाणी ने कहा कि पिछले तीन वर्षों में राज्य सरकार की ओर से अनेक चेक डैम एवं तालाबों के साथ-साथ कई अन्य जल संरक्षण प्रयास किए गए हैं जिनके अच्छे नतीजे अब सामने आ रहे हैं।
अहमदाबाद की महापौर सुबिजल पटेल, गुजरात सरकार के गृह मंत्री प्रदीपसिंह जड़ेजा, गुजरात के कृषि मंत्री आर.सी. फालदू, गुजरात के राजस्व मंत्री कौशिक भाई पटेल और अन्य गणमान्य व्यक्ति भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

Related News

Leave a Comment