शिक्षिका अमृत कौर पर था दस्तार छोड़ने का दबाव, उन्होंने छोड़ दी जॉब

चंडीगढ़। क्यूबैक, कनाडा में बिल-21 लागू होने के बाद उन लोगों के लिए नौकरी करना मुश्किल हो गया है जो दस्तार, बुरका, क्रॉस या कोई अन्य धार्मिक प्रतीक, चिन्ह पहनते हैं।

इस वजह से मॉन्ट्रियाल में एक स्कूल की टीचर अमृत कौर को भी क्यूबैक छोड़ना पड़ रहा है। वे सिख होने के नाते दस्तार पहनती हैं।

इस बिल के बाद उनपर दबाव था कि या तो वे दस्तार छोड़ें या नौकरी। उन्होंने दस्तार को प्राथमिकता देते हुए नौकरी छोड़ दी।


मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार अमृत कौर का कहना है कि सरकार ने स्पष्ट संदेश दे दिया है कि उनके जैसे लोग जो कि धार्मिक प्रतीक पहनते हैं, उनका क्यूबैक में कोई काम नहीं है। अमृत कौर वर्ल्ड सिख आर्गेनाइजेशन ऑफ कैनेडा की वाइस प्रेसिडेंट भी हैं और काफी समय से इस कानून के खिलाफ चल रहे संघर्ष का नेतृत्व कर रही थीं। 

Related News

Leave a Comment