तबरेज अंसारी को भीड़ ने नहीं मारा तो कैसे हुई उसकी मौत: अरशद मदनी

सहारनपुर। झारखंड के चर्चित तबरेज अंसारी प्रकरण में हत्या की धारा हटाए जाने को लेकर जमीयत उलमा-ए-हिंद के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना अरशद मदनी ने कहा कि यह हत्या नहीं बल्कि दरिंदगी की एक ऐसी दुखद घटना है, इसमें एक निर्दोष और असहाय व्यक्ति को कुछ लोगों ने मौत के घाट उतार दिया।

मदनी ने सवाल उठाया कि तबरेज अंसारी को भीड़ ने नहीं मारा तो उसकी मौत कैसे हुई। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार गुरुवार को जारी बयान में मौलाना अरशद मदनी ने कहा कि हमारा देश सदियों से शांति, एकता और सांप्रदायिक सौहार्द का केंद्र रहा है, लेकिन अफसोस कि घृणा और एक दूसरे को सहन न करने की खतरनाक सोच ने सब कुछ बदल कर रख दिया है।

मौलाना मदनी ने कहा कि बीते वर्षों में देश भर में धर्म आधारित भीड़ हिंसा हो रही है। घृणा में अंधे होकर झुंड के रूप में कुछ लोग किसी निहत्थे और निर्दोष व्यक्ति को पकड़ लेते हैं और उसे पीट-पीटकर मार देते हैं। इस प्रकार की घटनाएं भारत के माथे पर एक कलंक हैं। 

Related News

Leave a Comment