अमर्यादित बोल पर फंसे आजम, रमा देवी से सदन में मांगनी होगी माफी, नहीं तो होगी कार्रवाई

नई दिल्ली। पीठासीन अधिकारी रमादेवी पर आपत्तिजनक बयान देकर समाजवादी पार्टी सांसद आजम खान की मुश्किलें बढ़ती चली जा रही हैं। अब से कुछ देर पहले सर्वदीलय बैठक में सहमति बनी है कि आजम खान विवादित बयान पर बिना शर्त माफी मांगे, अगर आजम अपने बयान पर माफी नहीं मांगते तो लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला उनके खिलाफ उचित कार्रवाई करें।
सूत्रों के अनुसार स्पीकर ओम बिड़ला आजम खान से महिला सदस्यों का गुस्सा शांत करने के लिए माफी मांगने के लिए कहेंगे। अगर आजम खान ऐसा नहीं करते तो स्पीकर उनके खिलाफ एक्शन ले सकते हैं। बता दें, लोकसभा में भाजपा, कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, राकांपा सहित सभी दलों ने गुरूवार को पीठासीन सभापति रमा देवी के बारे में आजम खान की टिप्पणी की पार्टी लाइन से हटकर कड़ी निंदा की और स्पीकर से इस मामले में कठोर कार्रवाई करने की मांग की है।
इस मामले पर शून्यकाल में निचले सदन में विभिन्न दलों की महिला सांसदों समेत दलों के नेताओं ने अपनी बात रखी। महिला सांसदों ने स्पीकर से ऐसी कार्रवाई करने की मांग की जो 'नजीर' बन सके। विधि मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि या तो आजम खान इसके लिए माफी मांगें या उन्हें निलंबित कर दिया जाए।
गौरतलब है कि लोकसभा में गुरुवार को तीन तलाक पर रोक लगाने के प्रावधान वाले विधेयक पर चर्चा के दौरान पीठासीन सभापति रमा देवी को लेकर सपा सांसद आजम खां की एक टिप्पणी पर भाजपा सदस्यों ने जोरदार विरोध जताया और उनसे माफी की मांग की थी। 
पीठासीन सभापति रमा देवी ने 'मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) विधेयक, 2019' पर सदन में हो रही चर्चा के दौरान अपनी बात रख रहे खां से आसन की ओर देखकर बोलने को कहा था। इस पर खान ने कुछ ऐसी आपत्तिजनक टिप्पणी की जिस पर भाजपा के सदस्यों ने जोरदार विरोध किया। पीठासीन सभापति रमा देवी भी कहते सुनी गयीं कि यह बोलना ठीक नहीं है और इसे रिकॉर्ड से हटाया जाना चाहिए। उन्होंने इसके लिए खां से माफी मांगने को भी कहा था।


Source : upuklive

Related News

Leave a Comment